ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध भूमिका : आज के युग में जहाँ मनुष्य दिनों-दिन कई तरह की नई-नई तकनीकें विकसित करता आ रहा है। विकास के लिए मनुष्य कई तरह से प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहा है। जिसकी वजह से प्रकृति के संतुलन को बनाए रखने में बहुत मुश्किल हो रही है। यही असंतुलन कई तरह […]

Continue Reading

भाग्य और पुरुषार्थ पर निबंध

भाग्य और पुरुषार्थ पर निबंध भूमिका : हमारा भारतीय समाज बहुत से रुढियों से ग्रस्त है। धार्मिक जीवन में जो आडंबर होते हैं वे हमे रुढियों के बंधन में और अधिक आबद्ध करते हैं। हम सब गीता को मानते हैं लेकिन फिर भी हम उस पर कभी आचरण नहीं करते। हम लोग कर्मयोगी बनने की जगह […]

Continue Reading

है अँधेरी रात पर दीपक जलाना कब मना है

है अँधेरी रात पर दीपक जलाना कब मना है भूमिका : अँधेरे और उजाले का संघर्ष बहुत सालों से होता आ रहा है। भारतवासियों ने अनेक साल अंधकार में बिताये हैं। भारत देश को अँधेरे की आदत पड़ गई थी। लेकिन महात्मा गाँधी जी ने भारत देश को एक आशा की किरण दिखाई थी। इसी पर […]

Continue Reading

नर हो न निराश करो मन को पर निबंध

नर हो न निराश करो मन को पर निबंध भूमिका : सभी लोगों को पता होता है कि नर शब्द का अर्थ पुरुष होता है। नर और पुरुष दोनों एक शब्द के व्यंजन होते हैं। नर का अर्थ पुरुष होता है लेकिन हम गंभीरता से इस शब्द के बारे में सोचें तो हमें यह पता चलता […]

Continue Reading

पराधीन सपनेहुँ सुख नाहीं पर निबंध

पराधीन सपनेहुँ सुख नाहीं पर निबंध भूमिका : तुलसीदास का कहना है कि जो व्यक्ति स्वाधीन नहीं होता है उसे स्वजनों से कभी भी सुख नहीं मिलता है। हमे जीवन में स्वाधीन होना चाहिए। एक मनुष्य के लिए पराधीनता अभिशाप की तरह होता है। जो व्यक्ति पराधीन होते हैं वे सपने में भी कभी सुखों का […]

Continue Reading

नदी की आत्मकथा पर निबंध

नदी की आत्मकथा पर निबंध भूमिका : नदी प्रकृति के जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसकी गति के आधार पर इसके बहुत नाम जैसे – नहर, सरिता, प्रवाहिनी, तटिनी, क्षिप्रा आदि होते हैं। जब मैं सरक-सरक कर चलती थी तब सब मुझे सरिता कहते थे। जब मैं सतत प्रवाहमयी हो गई तो मुझे प्रवाहिनी कहने लगे। जब मैं […]

Continue Reading

मुंशी प्रेमचंद पर निबंध

मुंशी प्रेमचंद पर निबंध भूमिका : हमारे हिंदी साहित्य को उन्नत बनाने के लिए अनेक कलाकारों ने योगदान दिया है। हर कलाकार का अपना महत्व होता है लेकिन प्रेमचंद जैसा कलाकार किसी भी देश को बड़े सौभाग्य से मिलता है। अगर उन्हें भारत का गोर्की कहा जाये तो इसमें कुछ गलत नहीं होगा। मुंशी प्रेमचंद जी के […]

Continue Reading

मेरी प्रिय पुस्तक रामचरितमानस पर निबंध

मेरी प्रिय पुस्तक रामचरितमानस पर निबंध भूमिका : महात्मा गाँधी में राम राज्य स्थापित करने की उच्च भावना को जगाने वाली प्रेरणा शक्ति को रामचरितमानस पुस्तक थी। इस पुस्तक को कवि तुलसीदास का अमर स्मारक माना जाता है। इसे तुलसीदास का ही नहीं बल्कि पूरी हिंदी साहित्य समृद्ध होकर समस्त जगत को अलोक देता रहता है। […]

Continue Reading

यदि मैं पुलिस अधिकारी होता पर निबंध

यदि मैं पुलिस अधिकारी होता पर निबंध भूमिका : हर बालक या व्यक्ति के मन में अपने सपनों को पूरा करने की इच्छा जन्म लेती है। हर किसी की अपनी महत्वकांक्षाएं होती हैं। अगर कोई व्यापारी बनना चाहता है तो कोई कर्मचारी बनना चाहता है। कोई नेता बनकर राजनीति में बैठना चाहता है तो कोई समाज […]

Continue Reading

यदि मैं शिक्षा मंत्री होता

यदि मैं शिक्षा मंत्री होता भूमिका : व्यक्ति जब भी अपने जीवन से संतुष्ट होता है तो वह अपने संतुष्टि के कारणों को मिटाने की कोशिश करता है। इसी इच्छा से मनुष्य की उन्नति के भेद का पता चलता हैं। मैं एक विद्यार्थी हूँ तो मेरी ज्यादातर इच्छाएँ मेरी शिक्षा से संबंधित हैं इसलिए मैं कई […]

Continue Reading

अभ्यास का महत्व पर निबंध

अभ्यास का महत्व पर निबंध अभ्यास का महत्व:- अभ्यास का  किसी भी मनुष्य के जीवन में बहुत महत्व होता है। अभ्यास करने से विद्या प्राप्त होती है और अनभ्यास से विद्या समाप्त हो जाती है। अभ्यास की कोई सीमा नहीं होती जब व्यक्ति निरंतर अभ्यास करता है तो वह कुछ भी प्राप्त कर सकता है। […]

Continue Reading

परिश्रम का महत्व पर निबंध

परिश्रम का महत्व पर निबंध भूमिका : मनुष्य के जीवन में परिश्रम का बहुत महत्व होता है। हर प्राणी के जीवन में परिश्रम का बहुत महत्व होता है। इस संसार में कोई भी प्राणी काम किये बिना नहीं रह सकता है। प्रकृति का कण-कण बने हुए नियमों से अपना-अपना काम करता है। चींटी का जीवन भी […]

Continue Reading

परोपकार पर निबंध

परोपकार पर निबंध भूमिका : मानव जीवन में परोपकार का बहुत महत्व होता है। समाज में परोपकार से बढकर कोई धर्म नहीं होता है। ईश्वर ने प्रकृति की रचना इस तरह से की है कि आज तक परोपकार उसके मूल में ही काम कर रहा है। परोपकार प्रकृति के कण-कण में समाया हुआ है। जिस तरह […]

Continue Reading

भारत के गाँव पर निबंध

भारत के गाँव पर निबंध भूमिका : हमारे भारत को गांवों का देश कहा जाता है। भारत की अस्सी प्रतिशत आबादी गांवों में रहती है। गांवों के लोगों का जीवन नगरो में रहने वाले लोगों से बिलकुल अलग होता है। गाँव के लोग भोले होते हैं। वे कड़ी मेहनत और परिश्रम करके दूसरों के पेट भरने […]

Continue Reading

भारत की राजधानी–दिल्ली पर निबंध

भारत की राजधानी–दिल्ली पर निबंध भूमिका : हमारा भारत एक विशाल देश है। भारत में कई प्रदेश हैं। भारत के हर प्रदेश में कई नगर हैं। भारत के हर नगर का अपने एक विशेष महत्व है। कोई नगर प्राकृतिक दृष्टि से अपना महत्व रखता है तो कोई सांस्कृतिक दृष्टि से गरिमापूर्ण है। कोई औद्योगिक दृष्टि से समृद्ध है तो कोई […]

Continue Reading

जन धन योजना पर निबंध

जन धन योजना पर निबंध भूमिका : प्रधानमंत्री जन धन योजना गरीबी को ध्यान में रखकर बनाई गई है जिससे उनमें बचत की भावना का विकास हो और साथ-साथ उनमें भविष्य की सुरक्षा का एक अहम भाव भी जागे। प्रधानमंत्री जन धन योजना केंद्र सरकार का बड़ा और अहम फैसला है जो देश की नीव को […]

Continue Reading

राष्ट्रीय ध्वज पर निबंध

राष्ट्रीय ध्वज पर निबंध भूमिका : प्रत्येक स्वतंत्र राष्ट्र का अपना एक ध्वज होता है जो उस देश के स्वतंत्र देश होने का संकेत होता है। भारतीय राष्ट्रिय ध्वज को सभी लोग तिरंगा के नाम से जानते हैं जिसका मतलब होता है तीन रंग। यह केसरिया, सफेद और हरे रंग से बना होता है और इसके […]

Continue Reading

मेक इन इंडिया पर निबंध

मेक इन इंडिया पर निबंध भूमिका : भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र देश है और विश्व में जनसंख्या के विषय में दूसरे स्थान पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भारत देश के विकास के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं उनकी सोच बिलकुल युवाओं की तरह की है। नरेंद्र मोदी जी में ऊर्जा कूट-कूटकर भरी हुई […]

Continue Reading

डिजिटल इंडिया पर निबंध

डिजिटल इंडिया पर निबंध भूमिका : डिजिटल इंडिया भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक मुहीम है ताकि भारत में लोगों को टेक्नोलॉजी और डिजिटल दुनिया का ज्ञान मिल सके। आज के समय तक डिजिटल दुनिया से बहुत दूर हैं क्योंकि अधिकतर लोग ऑनलाइन दुनिया से अभी कोशों दूर हैं इसी वजह से इस मुहीम को […]

Continue Reading

भारतीय संस्कृति पर निबंध

भारतीय संस्कृति पर निबंध भूमिका : भारतीय संस्कृति विश्व की सर्वाधिक प्राचीन एवं समृद्ध संस्कृति है। इससे विश्व की सभी संस्कृतियों की जननी माना जाता है। जीने की कला हो या विज्ञान और राजनीति का क्षेत्र, भारतीय संस्कृति का सदैव विशेष स्थान रहा है। अन्य देशों की संस्कृतियाँ तो समय की धारा के साथ-साथ नष्ट होती […]

Continue Reading

राष्ट्रीय एकता पर निबंध

राष्ट्रीय एकता पर निबंध भूमिका : भारत एक विशाल देश है। इसकी भौगोलिक और प्राकृतिक स्थिति ऐसी है कि इस एक देश में अनेक देशों की कल्पना को सहज रूप से किया जा सकता है। इस देश में 6 ऋतुओं का एक अद्भुत क्रम है। देश में एक ही समय में एक क्षेत्र में गर्मी का […]

Continue Reading

हमारा प्यारा भारतवर्ष पर निबंध

हमारा प्यारा भारतवर्ष पर निबंध भूमिका : भारत सिर्फ एक शब्द नहीं है यह हर भारतीय के दिल की आवाज है। भारत एक देश है जहाँ पर हम सभी इसकी छत्रछाया में रहते हैं। राष्ट्र ही मनुष्य की सबसे बड़ी संपत्ति होती है। भारत को हर भारतीय अपनी माँ मानता है। जिस भूमि के अन्न-जल से […]

Continue Reading

नोटबंदी पर निबंध

नोटबंदी पर निबंध भूमिका : नोटबंदी में जब पुराने नोटों और सिक्कों को बंद करके नए नोट और सिक्के चलाये जाते हैं उसे नोटबंदी कहते हैं। नोटबंदी एक प्रक्रिया होती है जिसमें मुद्रा का कानूनी दर्जा निकाल दिया जाता है और यह सिक्कों में भी लागू होता है। पुराने नोटों और सिक्कों को बदल दिया जाता […]

Continue Reading

जल बचाओ पर निबंध

जल बचाओ पर निबंध भूमिका : जल हमें और दूसरे प्राणियों को पृथ्वी पर जीवन प्रदान करता है। जल भगवान का एक सुंदर उपहार है जो उन्होंने हमें दिया है। पृथ्वी पर जीवन को जारी रखना बहुत जरूरी है। पानी के बिना किसी भी गृह पर जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। पृथ्वी […]

Continue Reading