hindi

पुस्तकालय पर निबंध

पुस्तकालय पर निबंध

पुस्तकालय पर निबंध
पुस्तकालय पर निबंध

भूमिका : जिस तरह से शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उत्तम भोजन की जरूरत होती है उसी तरह मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए अध्धयन की जरूरत होती है। अध्धयन से मस्तिष्क का विकास होता है और ज्ञान की वृद्धि होती है। अध्धयन के लिए अच्छी और ज्ञानवर्धक पुस्तकों की जरूरत होती है। विभिन्न प्रकार की ज्ञानवर्धक पुस्तकों को पुस्तकालय से प्राप्त किया जा सकता है।

इसी वजह से पुस्तकालय हमारे ज्ञान के विकास में सहायक होते है। पुस्तकालय दो शब्दों से मिलकर बना होता है- पुस्तक+आलय। जिसका अर्थ होता है वह स्थान या घर जहाँ पर अधिक मात्रा में पुस्तकें रखी जाती हैं। पुस्तकालय केवल पुस्तकों का घर नहीं होता है बल्कि घर के रूप में ज्ञान का मंदिर होता है।

पुस्तकालय एक ऐसा स्थान होता है जहाँ पर किसी भी प्रकार की अच्छी पुस्तक के होने की संभावना होती है और कोई भी व्यक्ति पुस्तक बिना खरीदे ही पढ़ सकता है। आज के समय में पुस्तकें हमारे जीवन का एक अंग बन चुकी है लेकिन फिर भी हर व्यक्ति के लिए यह संभव नहीं होता है कि वह हर पुस्तक को खरीद सके। आज के समय में पुस्तकें बहुत महंगी मिलती हैं। अत: हमें पुस्तकालयों की मदद लेनी पडती है।

भारत में पुस्तकालय : प्राचीनकाल से ही भारतीय जनता को पुस्तकों में बहुत रूचि रही है। प्राचीनकाल में भी हस्तलिखित ग्रंथों को संग्रह करने की परंपरा थी। नालंदा, तक्षशिला, विक्रमशिला आदि सभी प्राचीनकाल विश्वविद्यालयों में बड़े-बड़े पुस्तकालय के होने के प्रमाण पाए जाते हैं जिन्हें बाद में मुस्लिम आक्रमणकारियों ने नष्ट-भ्रष्ट कर दिया था।

मुगल शासक भी कला प्रेमी थे। उन्होंने पुस्तक संग्रह को प्रोत्साहन दिया। मुगल शासनकाल में भी बहुत से पुस्तकालयों के होने के प्रमाण मिलते हैं। जब अंग्रेजों का शासनकाल आया तब पुस्तकालयों की दिशा में बहुत प्रगति हुई। उन्होंने अंग्रेजी पुस्तकों के कई संग्रहालय खोले।

बहुत से विद्याप्रेमी अंग्रेजों ने संस्कृत पढ़कर भारतीय साहित्य और संस्कृति का गहन अध्धयन किया। उन्होंने संस्कृत के ग्रंथों पर आधारित नूतन ग्रंथों की रचना भी की। अंग्रेजी पुस्तकालयों में भारतीय भाषाओं की पुस्तकों को भी सम्मान दिया गया उसके बाद भारत में कई ग्रंथागारों का निर्माण हुआ। आज के समय भारत में कई वृहद सार्वजनिक व विश्वविद्यालयी पुस्तकालय हैं जिनमे हर विषय की हर प्रकार की पुस्तक उपलब्ध होती है।

विद्यालयों में पुस्तकालय : हर विद्यालय में एक सुव्यवस्थित पुस्तकालय होता है जिसमें पुस्तकालयाध्यक्ष और उसके सहकर्मी रहते हैं। विद्यालयों में माध्यमिक स्तर तक दो तरह की पुस्तकें होती हैं एक बुक बैंक की पुस्तकें और दूसरी सामान्य पुस्तकें। बुक बैंक की पुस्तकों में सिर्फ पाठ्यक्रम की पुस्तकें ही आती है जिन्हें छात्रों को निश्चित अवधि तक उधार दिया जाता है।

ये पुस्तकें बहुधा छात्रों को उधार दी जाती हैं। सामान्य पुस्तकों के अंतर्गत वे पुस्तकें आती हैं जो पाठ्यक्रम के अतिरिक्त ज्ञान, विज्ञान और मनोरंजन के लिए होती हैं। इन पुस्तकों को छात्रों व अध्यापकों को एक निश्चित अवधि तक उधार दिया जाता है। इसके अलावा विद्यालयी पुस्तकालयों में विभिन्न प्रकार के समाचार पत्र व पत्रिकाएँ आती हैं, जिन्हें छात्र व अध्यापक पुस्तकालय में बैठ कर ही पढ़ते हैं।

पुस्तकालय एक ज्ञान कोष : पुस्तकालय ज्ञान का भंडार और एक अच्छा शिक्षक होता है। यहीं पर विद्यवजनों की ज्ञान की पिपसा शांत होती है। कई विद्वानों के अपने पुस्तकालय भी होते हैं, लेकिन ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं होता है जिसके पास सभी विषयों की पुस्तकें विद्यमान रहती हैं।

पुस्तकालयों में सभी प्रकार की पुस्तकें होती हैं जिन्हें वहीं पर बैठकर पढ़ा जाता है और नियमानुसार घर भी ले जाया जा सकता है। लेखकों और शिक्षार्थियों को अंक पुस्तकालयों से संबंध रखना पड़ता है। अध्यापक, वकील, चिकित्सक, वैज्ञानिक और लेखक भी समय-समय पर पुस्तकालयों से सहायता लेते हैं।

पुस्तकालयों की मदद से मानव को हर क्षेत्र की जानकारी प्राप्त होती है। पुस्तकालयों में नाना-प्रकार की पत्र-पत्रिकाए होती हैं जिनके अध्धयन से पाठक अपनी ज्ञान वृद्धि करता है और दुनिया की नवीन घटनाओं और परिस्थितियों से परिचित होता है। इसी वजह से पुस्तकालय ज्ञान प्राप्ति का एक सशक्त माध्यम है।

पुस्तकालय का महत्व : विश्व में ज्ञान की जरूरत हर काल में और हर देश में होती है। जिस देश के लोगों में तरह-तरह की जानकारियां सबसे अधिक होती हैं वहीं देश संसार में सबसे ऊँचा होता है और वही देश सब क्षेत्रों में प्रगति कर सकता है। ज्ञान पाने का सबसे बड़ा और अच्छा मार्ग पुस्तकालय होता है।

किसी प्राचीन विषय का अध्धयन करना हो या वर्तमान विषय का, विज्ञान और तकनीक का अध्धयन करना हो या किसी कला या साहित्य का, कविताओं की कोई अच्छी पुस्तक चाहिए या किसी महापुरुष की जीवनी सब कुछ एक स्थान पर यानी पुस्तकालय में हमें मिल जाता है।

छोटे-छोटे और बड़े-बड़े स्कूलों और कॉलेजों को इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए स्थापित किया गया है लेकिन ज्ञान का क्षेत्र इतना विशाल है कि ये शिक्षण संस्थाएं एक निश्चित सीमा और निश्चित ज्ञान में पूरी तरह से ज्ञान-साक्षातकार नहीं करा सकती हैं। इसी वजह से जिन्हें ज्ञान प्राप्त करने की प्रबल इच्छा होती है उन्हें पुस्तकालयों का सहारा लेना पडता है।

प्राचीनकाल में पुस्तकें हस्तलिखित हुआ करती थीं जिसमें एक ही व्यक्ति के लिए विविध विषयों पर पुस्तकें उपलब्ध करना बहुत कठिन था। लेकिन आज के मशीनी युग में भी जबकि पुस्तकों का मूल्य प्राचीनकाल की अपेक्षा बहुत कम है सारी पुस्तकों को खरीदने में असमर्थ होता है।

पुस्तकालय हमारी इस असमर्थता में बहुत सहायक होता है। माता-पिता द्वारा बच्चों को दिया गया विद्या रूपी धन वास्तव में बच्चों की सच्ची पूंजी है। पुस्तकें पढकर बालक अध्धयन, चिंतन एवं मनन करके विद्वान् बनता है। पुस्तकालय में उसे हर प्रकार की पुस्तक प्राप्त होती है। देश-विदेश के लेखकों की विभिन्न भाषाओं एवं विषयों पर लिखी पुस्तकों को सुंदर ढंग से पुस्तकालय में सजाया जाता है।

उनकी एक सूचि तैयार की जाती है। इसको पढकर विद्यार्थी पुस्तकें पुस्तकालय में नहीं अपितु घर पर लाकर भी पढ़ सकता है। निर्धन छात्रों के लिए पुस्तकालय वरदान होता है। महापुरुषों की जीवनियाँ और शिक्षाप्रद कहानियाँ तो लोगों के जीवन को ही बदल देती हैं। कविताएँ और नाटक मनुष्य को आमिक आनंद प्रदान करते हैं।

पुस्तकालय के प्रकार : पुस्तकालय विभिन्न प्रकार के होते हैं जैसे- सार्वजनिक पुस्तकालय, संस्थागत या विभागीय पुस्तकालय, निजी पुस्तकालय आदि। बहुत से विद्या से प्रेम करने वाले जनों पर लक्ष्मी जी की कृपा रहती है वे अपने घर में ही पुस्तकालय की स्थापना करते हैं। जो ऐसे पुस्तकालय होते हैं वे व्यक्तिगत पुस्तकालय कहलाते हैं।

सार्वजनिक दृष्टि से इनका बहुत कम महत्व होता है। एक प्रकार के पुस्तकालय स्कूलों और कॉलेजों में होते हैं जो सिर्फ पाठ्य विषयों से ही संबंधित होते हैं। इस तरह के पुस्तकालय भी सार्वजनिक उपयोग में नहीं आते हैं। इनका प्रयोग सिर्फ छात्र और अध्यापक ही करते हैं लेकिन ज्ञानार्जन और शिक्षा की पूर्णता में इनका बहुत अधिक महत्व होता है।

ये पुस्तकालय सार्वजनिक पुस्तकालय नहीं होते। इनके बिना शिक्षालयों की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। राष्ट्रिय पुस्तकालयों में देश-विदेश में विभिन्न विषयों पर छपी पुस्तकों का विशाल संग्रह होता है। इनका प्रयोग भी बड़े-बड़े विद्वानों द्वारा किया जाता है।

जिन पुस्तकालयों का संचालन सार्वजनिक संस्थाओं द्वारा होता है वे सार्वजनिक पुस्तकालय होते हैं। आज के समय में गांवों में भी ग्राम पंचायतों द्वारा सबके लिए पुस्तकालय चलाये जा रहे हैं लेकिन शिक्षा के क्षेत्र में इनका महत्वपूर्ण योगदान नहीं होता है।

आज के समय में एक और प्रकार के पुस्तकालय भी दिखाई देते हैं जिन्हें चल पुस्तकालय कहा जाता है। ये पुस्तकालय मोटरों या गाड़ियों में बनाए जाते हैं। इन पुस्तकालयों का उद्देश्य ज्ञान विज्ञान का प्रसार करना होता है। इनमे ज्यादातर प्रसार साहित्य ही होता है।

पुस्तकालय का लक्ष्य : पुस्तकालयों का उद्देश्य पाठकों के लिए सभी प्रकार की पुस्तकों का संग्रह करना होता है। अपने पाठकों की रूचि और आवश्यकता के बल पर पुस्तकालय अधिकारी देश-विदेश में मुद्रित पुस्तकों को प्राप्त करने में सुविधा के लिए पुस्तकों की एक लिस्ट बनाता है। पाठकों को पुस्तकें प्राप्त कराने के लिए एक कर्मचारी को नियुक्त किया जाता है।

पाठकों के बैठने और पढने के लिए समुचित व्यवस्था की जाती है। जिस स्थान पर पढ़ा जाता है उसे वाचनालय कहा जाता है। पाठकों को घर पर पढने के लिए भी पुस्तकें दी जाती हैं लेकिन इसके लिए एक निश्चित राशि का भुगतान करके पुस्तकालय की सदस्यता को प्राप्त करना होता है। पुस्तकालय में विभिन्न पत्रिकाएँ भी होती हैं।

विश्व के पुस्तकालय : पुस्तकालयों की दृष्टि से रूस, अमेरिका और इंग्लेंड सबसे बड़े देश हैं। मॉस्को के लेनिन पुस्तकालय में डेढ़ करोड़ से भी ज्यादा मुद्रित पुस्तकें संगृहीत हैं। अमेरिका के कांग्रेस पुस्तकालय में चार करोड़ से भी ज्यादा पुस्तकें संगृहीत हैं। इसे विश्व का सबसे बड़ा पुस्तकालय माना जाता है।

इंग्लेंड में ब्रिटिश म्यूजियम पुस्तकालय में 50 लाख से भी ज्यादा पुस्तकों का संग्रह है। भारत के कोलकाता के राष्ट्रिय पुस्तकालय में दस लाख से भी अधिक पुस्तकें हैं। केंद्रीय पुस्तकालय, बड़ोदरा में डेढ़ लाख पुस्तकों का संग्रह है। प्राचीनकाल के भारत में नालंदा और तक्षशिला में बहुत बड़े पुस्तकालय थे। भारत में गाँव में पुस्तकालय की बहुत अधिक जरूरत है।

भारत में बहुत से पुस्तकालय हैं जैसे- आंध्रप्रदेश में गौतमी ग्रंधालायम पुस्तकालय, पटना में खुदा बख्श ओरिएंटल लाइब्रेरी, सिन्हा लाइब्रेरी व माँ चंद्रकांता जी पब्लिक लाइब्रेरी, गोवा व साउथ गोवा में बुव्कोर्क चिल्ड्रन व डॉ. फ्रांसिस्को लुईस गोमेस डिस्ट्रिक्ट लाइब्रेरी, पणजी में गोवा सेंट्रल लाइब्रेरी, तिरुवन्तपुरम में स्टेट सेंट्रल लाइब्रेरी, राजस्थान में गुलाब बाघ पब्लिक लाइब्रेरी, उत्तर प्रदेश में मौलाना आजाद लाइब्रेरी, पश्चिम बंगाल में नेशनल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया और दिल्ली में दयाल सिंह लाइब्रेरी व जामिया हमदर्द लाइब्रेरी आदि।

पुस्तकालय के लाभ : पुस्तकालय के अनेक लाभ होते हैं। अपने ज्ञान को पूरा करने के लिए पुस्तकालयों के अलावा और कोई सस्ता साधन उपलब्ध नहीं है। अध्यापक विद्यार्थी का केवल पथ-प्रदर्शन करता है। ज्ञानार्जन की क्रिया को पुस्तकालय से पूरा किया जाता है। देश-विदेश के और भूत तथा वर्तमान के विद्वानों के विचारों से अवगत कराने में पुस्तकालय हमारी बहुत मदद करता है।

आर्थिक दृष्टि से भी पुस्तकालय का महत्व कम नहीं होता है। एक व्यक्ति जितनी पुस्तकों को पढने की इच्छा रखता है उतनी पुस्तकों को खरीद नहीं सकता है। पुस्तकालय उसकी इस कमी को पूरा कर देता है। पुस्तकालय से कहानी, मनोरंजन, कविता और उपन्यास जैसे विषयों की पुस्तकों को भी प्राप्त किया जा सकता है। अवकाश के समय का सदुपयोग पुस्तकालय में बैठकर किया जा सकता है।

आधुनिक जीवन में शिक्षित व्यक्ति के लिए पुस्तकालय का बहुत महत्व होता है। प्रत्येक व्यक्ति को अलग-अलग विषयों की किताबें पढने का शौक रहता है। बच्चे, बूढ़े, जवान किसी भी उम्र के व्यक्ति अपने शौक अनुसार किताबों को पढकर अपना ज्ञान वर्धन कर सकते हैं।

अलग-अलग विषयों पर किताबें पढने से व्यक्ति में हर क्षेत्र का ज्ञान बढ़ता है। कॉमिक्स, किस्से कहानी, उपन्यास, नाटक आदि सभी पढने से मनुष्य में काल्पनिकता बढती है। पुस्तक पढ़ते समय व्यक्ति पुस्तक में लिखीं कहानी या घटना में खो जाता है और काल्पनिकता में चला जाता है।

पढाई से संबंधित पुस्तकें पढकर मनुष्य शिक्षित होता है और अपने जीवन में आगे बढ़ता है। पुस्तकें पढने से मनुष्य में जागरूकता पैदा होती है। साहित्यिक पुस्तकों को पढने से मनुष्य में समाज एवं सामाजिक जानकारी आती है। पुस्तकालय में बहुत सी ऐतिहासिक किताबें भी उपलब्ध होती हैं जिन्हें पढकर मनुष्य देश अथवा दुनिया के इतिहास को जान सकता है।

अध्यन के लिए वातावरण : आज के समय में शहरी वातावरण कोलाहल पूर्ण बन चुका है। बस, रेल, कार आदि की ध्वनि से वातावरण हर समय मुखरित रहता है। इस परिस्थिति में अध्धयन करना असंभव होता है। अध्धयन के लिए एकांत और शांत वातावरण की जरूरत होती है। ज्यादातर घरों में भी अध्धयन का वातावरण उचित नहीं मिल पाता है।

अध्धयन करने वाले छात्र एकांत स्थलों पर पढने के लिए चले जाते हैं। ऐसा एकांत और शांत वातावरण पुस्तकालयों में ही मिलता है। निर्धन परिवार में तो छोटे-छोटे कमरे में कई लोग रहते हैं छोटे बालक खेलते हैं। पढने वाले छात्र को पढने का अवसर नहीं मिल पाता है इसीलिए अध्ध्यनशील छात्र अपने निकटस्थ पुस्तकालयों में जाकर अध्धयन का आनंद लेते हैं।

उपसंहार : जिस तरह से किसी मंदिर में प्रवेश करने से हमारा मन भगवान और देवी के प्रति श्रद्धा से भर जाता है उसी तरह से पुस्तकालय में प्रवेश करने से हमारे मन में तरह-तरह की पुस्तकों के प्रति आकर्षण तथा ज्ञान की जिज्ञासा बढ़ जाती है। अगर किसी को ज्ञान प्राप्त करने की जरूरत या शौक है तो नियमित रूप से पुस्तकालय जाना चाहिए।

दूरदर्शनों तथा फिल्मों ने पुस्तकों के प्रकाशन को बहुत अधिक प्रभावित किया है। लेकिन फिर भी पुस्तकों की उपयोगिता हर युग में इसी प्रकार से बनी रहेगी। सामान्य पाठक पुस्तकों को खरीदने में असमर्थ होता है इसी लिए उसे पुस्तकालयों का ही सहारा लेना पड़ता है।

आज के समय में ग्रामीण क्षेत्रों में पुस्तकालयों की अत्यधिक आवश्यकता होती है। अनपढ़ता को दूर करने में भी पुस्तकालयों का बहुत महत्वपूर्ण योगदान होता है। हमें पुस्तकालयों को बढ़ावा देना चाहिए। सरकार को जगह-जगह पर नए-नए पुस्तकालय खोलने चाहिए।

ग्रामीण क्षेत्रों में चलते-फिरते पुस्तकालय उपलब्ध करने चाहिएँ। पुस्तकालयों की पुस्तकों की देख-रेख अच्छी तरह से करनी चाहिए। हर व्यक्ति को समय-समय पर पुस्तकें खरीदकर अपना खुद का छोटा सा निजी पुस्तकालय भी बनाना चाहिए।

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

पुस्तकालय पर निबंध