प्रेमिका का खत प्रेमी के नाम

जो सत्य है अव्यक्त है, मिलन की झूठी आस है, नहीं बनोगे हमसफर, यह सोच दिल‌ उदास है। कुरीतियों की बेडिया, समाज में बडी बडी, कदम लडखडा रहे, मुश्किलें गले पडी । तुम जीत नहीं पाओगे, समाज के दरिंदों से, ये झूठी शान के लिए, पर काटते परिदों के। उन्मुक्त गगन मे यहां, उडान का […]

Continue Reading

प्रेम पत्र

मेरे प्रिय प्रेमी, लिखना चाहती हू ढेर सारी बातें भरे प्रेम पत्र पर लिखा न पाती एक तिनका अक्षर । क्यों समझ न पाती । क्या पत्र से निकालनेवाला है प्रेम? नहीं आँखों में फँसकर मन पर लिपटकर साँस में व्याप्तवाला है प्रेम । इसलिए मेरे प्रिय प्रेमी लिखना चाहती हू ढेर सारी बातें भरे […]

Continue Reading

तबस्सुम तेरे प्यार का

गिरती बुँदे तरूओ से छन कर, मेरे मुख-मण्डल को भिगो रही है, मधूर उषा की अँगराई, मेरे रोम-रोम को महका रही है, मेरा हृदय अठखेली करता वाचाल पलो मे, तेरे प्यार का तब्बसुम आरोही-अवरोही कर रहे है, क्षितीज छोर पर दीप्ती -भाल मेरे सौदर्य को दमका रहे है, मै रक्तिम-स्वर्णिम पथ पर बैठी, महसूस कर […]

Continue Reading

मेरे हमनशीं

ऐ मेरे हमनशीं ! मेरे हमदम !, तुम है पास  तो  फिर क्या है गम . तुम जहाँ कहीं भी हो ,जैसे भी हो , मेरी दुआएं साथ है तुम्हारे हरदम . तुम दूर होकर भी हो साथ मेरे , मेरे तसव्वुर में हर घड़ी ,हर शाम . देखती हूँ तुम्हारी तस्वीर में रंग नए […]

Continue Reading

वो और मेरा प्यार

वो और मेरा प्यार सुना है जंगलों का भी कोई दस्तूर होता है प्यार दिलवालों से करो तो क़बूल होता है ये प्यार कोई माचिस की तीली नहीं जब होता है तो हरपल, भरपूर होता है वो कहते हैं तुम्हें मुझसे प्यार क्यों है, अब क्या बताऊँ जब होता है तो बेवज़ह बेइंतहा होता है […]

Continue Reading

मेरी हमसफर बनोगी

मेरी हमसफर बनोगी जोर से बोलो वेलिनटाइन बाबा की जय………. बरबादी के देवता की………..जय हो गॉड ऑफ लव की…… पहले मैंने सोचा कि ये ब्लॉग लिख तो लिया है मगर पोस्ट करूँ या न करूँ…..संशय में था… तभी मेरे दोस्त ने मुझसे कहा “””सोमू तू लिख क्योंकि लेखक स्वतंत्र होता है बस इत्ता सुनकर हमाये […]

Continue Reading

तेरे बिन गुजरा वो दिन

आज सुबह जब आँखे खुली, तो लगा कि जैसे रोज की तरह आज फिर आयेगी तेरी यादें और सूरज की किरण, मगर खिड़की से देखा तो बाहर बादल थे और दिल भी वीरान । जब छत पर जाकर बच्चों को खेलते देखा, तो लगा कि जैसे रोज की तरह आज फिर तुम और तुम्हारी वो […]

Continue Reading

काश कोई ऐसा होता

काश मेरी जिंदगी में भी कोई ऐसा होता जहाँ दिल से अपनापन मिलता जो गले लगा के कहता अरे ओ पगले रोया मत कर तेरे रोने से हमें भी तकलीफ होती है काश मेरी ज़िंदगी में भी कोई ऐसा होता जो चेहरे की हँसी के पीछे का दर्द समझ पाता मेरी हर तकलीफ का उसे […]

Continue Reading

रिश्ते और मंजिल

मोहब्बत हो या दोस्ती दोनो ही लाजवाब हैं गर दोस्त से ही मोहब्बत हो जाये, ये बड़ी बात है मोहब्बत और दोस्ती, एक अजीब इतेफाक है क्योंकि दोस्ती हो या मोहब्बत, करना है आसाँ बहुत पहला प्यार हो या दोस्त होना कोई बड़ी बात नहीं, आखिरी दोस्त या प्यार बन जाना बड़ी बात है।। न […]

Continue Reading

दोस्ती(एक प्रेम कहानी)

दोस्ती(एक प्रेम कहानी) कुछ रिस्ते, रिस्ते नहीं अपित एक अहसास होते हैं एक ऐसा अहसास जो जो कभी न मिटने वाली छाप छोड़ देते है। “”दोस्ती”” ये शब्द नही एक अहसास है एक रिस्ता है वो ऐसा रिस्ता जिसका कोई मोल नही है। न जाति पाति, न भेद भाव, न ऊंच नीच, न छोटा बड़ा, […]

Continue Reading

मोर पर निबंध

मोर पर निबंध भूमिका : मोर हमारा राष्ट्रिय पक्षी है। यह देश की लम्बाई और चौडाई में पाया जाता है। मोर हमारे भारत देश का राष्ट्रिय पक्षी है। पक्षियों में यह बड़ा पक्षी होता है। मोर के बहुत ही सुंदर और रंगबिरंगे पंख भी होते हैं। मोर के पंख लम्बे सतरंगी और चमकदार होते हैं। मोर […]

Continue Reading

कुत्ते पर निबंध

कुत्ते पर निबंध भूमिका : कुत्ता एक घरेलू पालतू जानवर है। कुता एक बहुत ही प्यारा और पालतू पशु होता है। कुत्ता चार पैरों वाला पशु होता है। कुत्ते के गुणों की कहानी अनमोल है। कुत्ता रीढ़दार हिंसक प्राणी होता है। कुत्ता मनुष्य द्वारा सबसे पहले पालतू बनाया जाने वाला जानवर माना जाता है। एक कुत्ते […]

Continue Reading

मेरे परिवार पर निबंध

मेरे परिवार पर निबंध भूमिका : घर परिवार की तरह कोई जगह नहीं होती है। घर परिवार का अर्थ स्नेह और प्यार से संबंध होता है। मेरा परिवार एक बड़ा और संयुक्त परिवार होने के साथ-साथ एक खुशहाल परिवार भी है। मेरा पूरा परिवार काशी में रहता है। मेरे परिवार में कई सदस्य हैं जैसे – […]

Continue Reading

मित्रता पर निबंध

मित्रता पर निबंध भूमिका : जीवन में प्रगति करने और उसे सुखमय बनाने के लिए अनेक वस्तुओं और सुख साधनों की आवश्यकता पडती है। परंतु एक साधन मित्रता के प्राप्त होने पर सभी साधन अपने आप ही इकट्ठे हो जाते हैं। एक सच्चे मित्र की प्राप्ति सौभाग्य की बात होती है। मित्र वह व्यक्ति होता है […]

Continue Reading

कल्पना चावला पर निबंध

कल्पना चावला पर निबंध भूमिका : भारत को महान पुरुषों और महिलाओं की भूमि कहा जाता है। भारत में अनेक विभूतियों ने जन्म लेकर संसार में भारत के नाम को उज्ज्वल किया है। कल्पना चावला उन्हीं में से एक थी। आज के वैज्ञानिक इतिहास में उनका नाम हमेशा सुनहरे अक्षरों में लिखा जायेगा। वे पूरे भारत […]

Continue Reading

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई पर निबंध

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई पर निबंध भूमिका : हमारे भारत के लिए यह बहुत ही गर्व की बात है कि रानी लक्ष्मी बाई का जन्म हमारे भारत में हुआ था। भारतीय वसुंधरा को गौरंवान्वित करने वाली झाँसी की रानी वीरांगना लक्ष्मीबाई वास्तविक अर्थों में ही आदर्श वीरांगना थीं। जो एक सच्चा वीर होता है वो कभी […]

Continue Reading

लोकमान्य गंगाधर तिलक पर निबंध

लोकमान्य गंगाधर तिलक पर निबंध भूमिका : लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक को उन स्वतंत्रता सेनानियों में से एक माना जाता है जो अपनी उग्रवादी चेतना, विचारधारा, साहस, बुद्धि और अपनी अटूट देशभक्ति के कारण जाने जाते हैं। बाल गंगाधर तिलक का व्यक्तित्व और कृतित्व एक ऐसी संघर्ष की कहानी है जिन्होंने एक नए युग का निर्माण […]

Continue Reading

स्वामी विवेकानंद पर निबंध

स्वामी विवेकानंद पर निबंध भूमिका : हमारे भारत देश में अनेक योगियों, ऋषियों, मुनियों, विद्वानों, महान पुरुषों और महात्माओं ने जन्म लिया है जिन्होंने भारत को सम्मानपूर्ण स्थान दिलाया है। इन महान पुरुषों में से एक स्वामी विवेकानंद भी थे। उन्होंने अमेरिका जैसे देश में भारत माता का नाम रोशन किया था। स्वामी विवेकानंद जी एक […]

Continue Reading

मदर टेरेसा पर निबंध

मदर टेरेसा पर निबंध भूमिका : मदर टेरेसा को उन महान लोगों में गिना जाता है जिन्होंने अपने जीवन को दूसरों के लिए समर्पित कर दिया था। मदर टेरेसा एक ऐसी महान आत्मा थीं जिन्होंने अपना पूरा जीवन लोगों की सेवा और भलाई करने में लगा दिया था। हमारी दुनिया को ऐसे ही महान लोगों की […]

Continue Reading

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध भूमिका : किसी भी देश की संस्कृति और सभ्यता मात्र घटनाओं, तिथियों, सिद्धांतों और नियमों की स्थापना से रूप नहीं लेती है बल्कि उसका सत्य और यतार्थ उन मनीषियों के जीवन और कार्य से रूपायित होते हैं जो मानवता का मार्ग दर्शन करते हैं। वे देश और काल की परिधि से भी […]

Continue Reading

वृक्षारोपण पर निबंध

वृक्षारोपण पर निबंध भूमिका : भूतकाल में मनुष्य की वस्त्र, भोजन, और आवास सभी जरूरत वृक्षों से ही पूरी होती थी। फल उसके भोजन, पत्ते और छाल उसके कपड़े और लकड़ी तथा पत्तियों से बनी झोंपड़ी उसका घर होती थी। आग लगाने का पता चलने पर उसने उष्ण भी वृक्षों से ही प्राप्त किया था। आज […]

Continue Reading

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध भूमिका : प्रदूषण आज के समय का एक सबसे बड़ा मुद्दा है जिसके बारे में सभी को पता होता है। पर्यावरण प्रदूषण हमारे जीवन की सबसे बड़ी समस्या है। प्रदूषण की वजह से हमारा पर्यावरण बहुत अधिक प्रभावित हो रहा है। प्रदूषण चाहे किसी भी तरह का हो लेकिन वह हमारे और […]

Continue Reading

जल प्रदूषण पर निबंध

जल प्रदूषण पर निबंध भूमिका : जल पर्यावरण का एक अभिन्न अंग होता है। पानी हमारे जीवन का एक बहुत ही जरूरी श्रोत होता है इसी वजह से कहा जाता है कि जल ही जीवन है। जल के बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। जल मनुष्य की मुलभुत आवश्यकताओं में […]

Continue Reading

वायु प्रदूषण पर निबंध

वायु प्रदूषण पर निबंध भूमिका : वायु प्राणियों के जीवन का आधार होता है। वायुमंडल पर्यावरण का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। मानव जीवन के लिए वायु का होना बहुत ही आवश्यक होता है। बिना वायु के मानव जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। पिछले कुछ सालों से संसार के सामने […]

Continue Reading