GK

ब्रह्माण्ड : सम्पूर्ण परिचय

ब्रह्माण्ड : सम्पूर्ण परिचय




  • पृथ्वी को घेरने वाला आकाश है – ब्रम्हाण्ड
  • ब्रम्हाण्ड से संबंधित अध्ययन कहलाता है – ब्रम्हाण्ड विज्ञान (कॉस्मोलोजी)
  • ब्रम्हाण्ड में लगातार प्रसार की घटना है – बिग-बैंग
  • ब्रम्हाण्ड से सबसे बड़ा तारा – स्पाइनल ओरेगी
  • बिग-बैंग सिद्धांत का प्रतिपादन किया – बेल्जियम के जॉर्ज लैमिन्टर ने 1966 में |
  • ब्रम्हाण्ड में विस्फोटी तारा है – अभिनव तारा या सुपरनोवा
  • ब्रम्हाण्ड की आयु – 13 बिलियम वर्ष
  • 1 वर्ष का प्रकाश द्वारा तय की गई दुरी कहलाती है – प्रकाश वर्ष
  • खगोलीय दुरी का सबसे का सबसे बड़ा मात्रक है – पारसेक
  • 1 पारसेक के बराबर है – 3.26 प्रकाश वर्ष
  • प्रकाश वर्ष का मात्रक है – दुरी का
  • 1 प्रकाश वर्ष का बराबर होता है – -9.46×1012 किमी. या 9.46×1015 मी.
  • सूर्य ब्रम्हाण्ड का केन्द्र है’ कहा था – कॉपरनिक्स (पोलैण्ड) ने
  • ब्लैक होल सिद्धांत दिया – एस. चन्द्रशेखर ने
  • वह सीमा जिसके बाहर तारे आंतरिक मृत्यु से ग्रसित होते है कहलाता है – चन्द्रशेखर सीमा
  • सूर्य सौरमंडल का केन्द्र है कहा था – केपलर ने
  • तारे का रंग सूचक है – उसके ताप का
  • अन्तरिक्ष यात्री को आकाश दिखता है –काला
  • तारे के टिमटिमाने का कारण है – प्रकाश का अपवर्तन
  • आकाश का रंग नीला प्रतीत होता है – प्रकीर्णन के कारण
  • तारों का सुन्दर पैटर्न कहलाता है – तारामंडल
  • तारामंडल की कुल संख्या है – 89
  • सबसे बड़ा तारामंडल है – सेन्टारस
  • सबसे छोटा तारामंडल है – क्रक्स
  • तारों के बड़े बड़े गुच्छो के समूह कहलाता है – गलैक्सी (व्यास-105 प्रकाश वर्ष)
  • आकाश गंगा की आकृति है – सर्पिलाकार
  • आकाश गंगा की निकटतम मन्दाकिनी है – देवयानी
  • एक खगोलीय एकक औसत दुरी है – सूर्य और पृथ्वी के बीच का
  • पृथ्वी तथा सौरमंडल जिस आकाशगंगा में स्थित है , वह कहलाता है – दुग्ध-मेखला
  • दुग्ध-मेखला है – एक मन्दाकिनी
  • मन्दाकिनी है – अरब तारों का समूह
  • नवीनतम ज्ञात मन्दाकिनी हिया – ड्वाक मन्दाकिनी
  • पल्सर होते है – तेजी से घुमने वाले तारे
  • आकाशगंगा मन्दाकिनी को सर्वप्रथम देखा था – गैलिलीयों ने
  • 76 वर्षों के अंतराल पर दिखाई देने वाला धूमकेतु – हेली (अंतिम बार 1986 में दिखा)
  • हेली धूमकेतु पुन: दिखाई पड़ेगा – 2062 में