बाल दिवस पर निबंध

बाल दिवस पर निबंध

Ramayana D 2 - बाल दिवस पर निबंध
बाल दिवस पर निबंध

भूमिका : जन्म दिवस मनाना हमारे भारत की एक प्राचीन परम्परा है। हम अपने महापुरुषों के जन्म दिनों को मनाकर उन्हें अपनी श्रद्धा अर्पित करते हैं और अपने व्यवहारिक जीवन में उनके आदर्शों पर चलने की कोशिश करते हैं। पंडित जवाहर लाल नेहरु जी भी उन महापुरुषों में से एक हैं जिनका जीवन भावी पीढ़ी के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत है। पंडित जवाहर लाल नेहरु जी का जन्म 14 नवम्बर, 1889 को इलाहबाद में हुआ था।

उनके जन्म दिवस को हर साल बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। देश के आजाद होने पर नेहरु जी को हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में निर्वाचित किया गया था। देशवासियों ने उनके जन्म दिन 14 नवम्बर को नेहरु जन्म दिवस के नाम से मनाना चाहा लेकिन नेहरु जी हमेशा बच्चों से प्यार करते थे। उनका सुकोमल ह्रदय बच्चों के प्यार से खिल उठता था, प्रधानमंत्री होने पर भी जो बच्चों में घुल-मिल जाते थे, उन्हें गले लगाते थे उन्होंने अपना जन्म दिन बाल दिवस के रूप में मनाने की अनुमति दी।

तभी से लोग नेहरु जी के जन्म दिन को बाल दिवस के रूप में मनाते आए हैं। सन् 1925 में बाल दिवस की नींव को रखा गया था। बच्चों के कल्याण के लिए विश्व कांफ्रेंस में बाल दिवस को मनाने के लिए सबसे पहले घोषणा हुई थी लेकिन सन् 1954 में इसे पूरी दुनिया में मान्यता प्राप्त हुई थी। नेहरु जी का मानना था कि देश के अच्छे विकास के लिए बच्चों को कमजोर, गरीब और उचित ढंग से विकास न होने से बचाना चाहिए।

बच्चों के विकास का दिन : अपने जन्म दिन को बाल दिवस के रूप में मनाने का उद्देश्य नेहरु जी के लिए सिर्फ बच्चों को प्यार करना ही नहीं था अपितु बच्चों का सर्वांगीण विकास करना भी था। नेहरु जी इस बात को जानते थे कि भारत एक गरीब देश है। भारत के बच्चों की हालत भी दयनीय थी।

आज का बालक कल के होने वाले देश का नायक है इसलिए बच्चों की हालत हर स्थिति में सुधारनी चाहिए। अगर देश को उन्नत और विकसित करना है तो देश के बच्चों की हालत सुधारनी चाहिए जिन बच्चों पर देश का भविष्य निर्भर करता है। इसीलिए बाल दिवस के अवसर पर सरकार बच्चों के विकास के लिए भिन्न-भिन्न योजनाएँ बनाती है।

बाल पूर्णता: बच्चों के लिए समर्पित होता है। इस दिन विशेष रूप से बच्चों के लिए कार्यक्रम एवं खेल-कूद से जुड़े बहुत से आयोजन करवाए जाते हैं। बच्चे देश का भविष्य होते हैं वे एक ऐसे बीज की तरह होते हैं जिन्हें दिया गया पोषण उनके विकास और गुणवत्ता पर निर्धारित करेगा। यही वजह है कि इस दिन बच्चों से जुड़े विभिन्न मुद्दों जैसे- शिक्षा, संस्कार, स्वास्थ्य, मानसिक और शारीरिक विकास के लिए बहुत ही आवश्यक विषयों पर विचार विमर्श किया जाता है।

दिल्ली का बाल भवन : 14 नवम्बर को सारे देश में बाल दिवस को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिल्ली के बाल भवन में उस दिन चहल-पहल निराली ही होती है। इस दिन यहाँ पर सारे देश भर के बच्चे बड़े हर्ष के साथ भाग लेने के लिए आते हैं। यहाँ पर बच्चों की विविध विषयों पर राष्ट्रिय स्तर पर प्रतियोगिताएं होती हैं।

सुबह से लेकर रात तक विविध प्रकार के कार्यक्रम होते रहते हैं। इस दिन के अवसर पर यहाँ विभिन्न खेलों का आयोजन होता है। अच्छे-अच्छे खिलाडियों को पुरस्कार देकर प्रोत्साहित किया जाता है। विभिन्न विषयों पर परागत बालकों को राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रिय पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाता है।

शाम को बाल कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिसमें बालक और बालिकाओं द्वारा संगीत, नाटक और नृत्य का प्रदर्शन किया जाता है। इन सभी आयोजनों में देश भर के हर आयु के बच्चे भाग लेते हैं। इन कार्यक्रमों का आयोजन बाल भवन सोसाइटी के द्वारा किया जाता है। जिसकी बहुत से देशों में शाखाएं उपस्थित होती हैं।

लेकिन दिल्ली बाल भवन में यह पर्व राष्ट्रिय स्तर पर मनाया जाता है। बहुत स्कूलों और संस्थानों में बाल मेला और प्रतियोगिताएं करवाई जाती हैं जिससे बच्चों की क्षमता और प्रतिभा को और अधिक बढ़ावा मिल सके। इस दिन पर विशेष रूप से गरीब बच्चों को मूलभूत सुविधाओं को उपलब्ध कराने के लिए और बाल श्रम एवं बाल शोषण जैसे मुद्दों पर बहुत ही गंभीरता से विचार विमर्श किया जाता है।

बाल दिवस की आवश्यकता : बच्चे नाजुक मन के होते हैं और प्रत्येक छोटी चीज या बात उनके दिमाग पर असर डालती है। उन्हीं का आज देश का आने वाला कल बनेगा जो बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसी वजह से उनके क्रियाकलापों, उन्हें दिए जाने वाले ज्ञान और संस्कारों पर बहुत ही विशेष रूप से ध्यान दिया जाना चाहिए।

इसके साथ-साथ बच्चों का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। बच्चों को सही शिक्षा, पोषण, संस्कार मिलें यह हमारे देश के लिए बहुत जरूरी होता है क्योंकि आज के बच्चे ही कल का भविष्य होते हैं। इस दिन बच्चे अपनी बनाई हुई वस्तुओं का प्रदर्शन करते हैं जिसमें बच्चे अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं।

नृत्य, गान और नाटक से वे अपनी मानसिक और शारीरिक क्षमता का प्रदर्शन करते हैं। हमें बच्चों की शिक्षा की तरफ ध्यान देना चाहिए क्योंकि बच्चे कल का भविष्य होते हैं। इसे खास तौर पर बाल श्रम रोधी कानूनों को पूरी तरह से लागू करना चाहिए। अनेक कानून होने के बाद भी बाल श्रमिकों की संख्या में साल-दर-साल वृद्धि होती जा रही है।

इन बच्चों का असली स्थान कारखानों में नहीं बल्कि स्कूलों में होता है। बच्चों के उज्ज्वल भविष्य को बनाने के लिए उनमे सुधार के साथ-साथ देश में बच्चों के महत्व, वास्तविक स्थिति के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल बाल दिवस मनाना बहुत ही आवश्यक होता है।

बाल दिवस उत्सव सभी के लिए एक मौका उपलब्ध कराता है जो कि खासतौर पर बच्चों के लिए होता है। बच्चों के प्रति अपने कर्तव्य और जिम्मेदारियों के एहसास के द्वारा ही बच्चों के भविष्य के बारे में सोचने के लिए लोगों को सोचने के लिए मजबूर करता है। यह लोगों को बच्चों की सही स्थिति के बारे में जागरूकता उत्पन्न करता है।

विद्यालयों में बाल दिवस : सभी विद्यालयों के छात्र कई दिनों पूर्व से बाल दिवस की प्रतीक्षा करते हैं। इस दिन राष्ट्रिय स्तर पर राजकीय अवकाश घोषित नहीं होता लेकिन विद्यालयों में यह पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। 14 नवम्बर को सभी छात्र विद्यालय में उपस्थित होते हैं। इस दिन बच्चे बहुत ही खुश और उत्साहित होते हैं।

वे सज-धज कर अपने विद्यालय जाते हैं। दिन भर विभिन्न कार्यक्रम चलते हैं। बच्चे बहुत से विशेष कार्यक्रमों में भाग लेते हैं। यह दिन बच्चों के लिए बहुत ही हर्ष का दिन होता है। सबसे पहले विभिन्न प्रकार के खेल-कूदों का आयोजन किया जाता है जिसमें विभिन्न छात्रों की रूचि के अनुकूल प्रतियोगिताएं होती हैं।

खेल-कूदों के बाद एक सभा का आयोजन किया जाता है। सभा के अंत में सभी बच्चों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाता है और मिठाईयां बांटी जाती हैं। सभी छात्र खुशी-खुशी अपने-अपने घर चले जाते है। बच्चे अपने चाचा नेहरु जी को बहुत ही स्नेह और प्रेम के साथ याद करते हैं।

विद्यालयों में बच्चे पंक्तिबद्ध होकर गली-मोहल्लों और सडकों पर नारे लगाते हुए निकलते हैं। वे समाज को बच्चों के अधिकारों के प्रति सचेत करते हैं। वे सभी लोगों में पर्यावरण जागरूकता को फैलाते हैं। बच्चों को नारे लगाने के बाद खाने की पूरी व्यवस्था की जाती है उनके खाने के लिए टोफियाँ, मिठाईयां, बिस्कुट और फल दिए जाते हैं।

उपसंहार : बाल दिवस हमें प्रगति के रास्ते पर आगे बढने का संदेश देता है। बच्चों की प्रगति पर ही देश की प्रगति निर्भर करती है इसलिए हर छात्र को बाल दिवस के दिन प्रतिज्ञा लेनी चाहिए कि वे अपनी बुरी आदतों को त्याग कर अपने जीवन को उज्ज्वल बनाने के लिए मेहनत करेंगे।

इस अवसर पर हम सभी को नेहरु जी के जीवन से प्रेरणा लेकर नेहरु जी की तरह देश की सेवा और रक्षा के लिए अपने सारे भेद-भाव भुलाकर, मिलजुल कर देश को आगे बढ़ाने में अपना योगदान देना चाहिए। बच्चों के रहन-सहन के स्तर को ऊँचा करने की हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। इन्हें स्वस्थ, निर्भीक और योग्य नागरिक बनाने का प्रयास किया जाना चाहिए।

बाल दिवस विभिन्न प्रकार की हलचलों से परिपूर्ण होता है। इस दिन सभी बच्चे अपने चाचा नेहरु जी को श्रद्धा के सतत पुष्प अर्पित करते हैं। हमें बाल दिवस को ज्यादा-से-ज्यादा प्रेरक और प्रतीकात्मक रूप से मनाना चाहिए जिससे बच्चों का हर तरह से सांस्कृतिक और बौद्धिक विकास हो सके। ऐसा करने से ही हमारा राष्ट्र समुन्नत और सबल हो सकेगा।

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

error: Content is protected !!