जल बचाओ पर निबंध

जल बचाओ पर निबंध

जल बचाओ पर निबंध
जल बचाओ पर निबंध

भूमिका : जल हमें और दूसरे प्राणियों को पृथ्वी पर जीवन प्रदान करता है। जल भगवान का एक सुंदर उपहार है जो उन्होंने हमें दिया है। पृथ्वी पर जीवन को जारी रखना बहुत जरूरी है। पानी के बिना किसी भी गृह पर जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। पृथ्वी एकमात्र ऐसा गृह है जहाँ पर आज तक जीवन और पानी दोनों विद्यमान हैं।

हमें अपने जीवन में जल के महत्व को समझना चाहिए और जल को बचाने के लिए हर संभव प्रयास करने चाहिए। हमारी पृथ्वी का लगभग 71% भाग जल से घिरा हुआ है जिसमें पीने योग्य पानी की बहुत ही कम मात्रा है। पानी को संतुलित करने का चक्र अपने आप ही चलता रहता है जैसे वर्षा और वाष्पीकरण।

धरती पर पीने लायक पानी की सुरक्षा और कमी की समस्या है। पीने का पानी बहुत ही कम मात्रा में उपलब्ध है। जल संरक्षण लोगों की आदतों से संभव हो सकता है। स्वच्छ जल बहुत से तरीकों से भारत और पूरी दुनिया के लोगों के जीवन को बहुत अधिक प्रभावित कर रहा है। स्वच्छ जल की कमी एक बहुत बड़ी समस्या बनती जा रही है। इस समस्या को दूर करने के लिए वैश्विक स्तर पर कोशिशें करनी चाहियें।

जल संरक्षण : जीवन को धरती पर संतुलित करने के लिए विभिन्न माध्यमों के द्वारा जल संरक्षण ही जल बचना होता है। पृथ्वी पर सुरक्षित और पीने के पानी की कमी की वजह से जल संरक्षण और जल बचाओ अभियान बहुत जरूरी हो चुका है। औद्योगिक कचरे के कारण रोज पानी के बड़े-बड़े स्त्रोत दूषित हो रहे हैं।

जल संरक्षण में अधिक कार्यक्षमता लाने के लिए सभी औद्योगिक बिल्डिंगें, अपार्टमेन्टस, स्कूल, अस्पताल आदि सभी को उचित जल प्रबंधन को बढ़ावा देना चाहिए। पानी की कमी और साधारण पानी की कमी से होने वाली समस्याओं के बारे में लोगों को जागरूक करना चाहिए। लोगों द्वारा जल बर्बादी के व्यवहार को मिटाने के लिए कानूनों की बहुत जरूरत है।

गांवों के लोगों द्वारा बरसात के पानी को इकट्ठा करना आरंभ करना चाहिए। जल के उचित रख-रखाव और बरसात के पानी को इकट्ठा करने के लिए बड़े-बड़े तालाबों को बनाना चाहिए। जल संरक्षण के लिए युवा छात्रों को अधिक जागरूक होने की जरूरत है और साथ में इस मुद्दे की समस्या और समाधान पर एकाग्र होने की जरूरत है।

विकासशील देशों में रहने वाले लोगों को जल की असुरक्षा और कमी बहुत प्रभावित कर रही है। आपूर्ति से बढकर मांग वाले क्षेत्रों में वैश्विक जनसंख्या के 40% लोग रहते हैं। आने वाले दशकों में यह स्थिति और भी खराब हो जाएगी क्योंकि आने वाले समय में जनसंख्या, कृषि, उद्योग सभी कुछ बढ़ेगा।

जल संरक्षण के उपाय : लोगों को अपने बागान या उद्यान में केवल तभी पानी देना चाहिए जब जरूरत हो। पानी को पाइप की जगह पर फुहारे से देने से बहुत अधिक मात्रा में पानी को बचाया जा सकता है। सूखा अवरोधी पौधा लगाकर भी जल संरक्षण किया जा सकता है। पाइपलाइन और नलों के जोड़ों को ठीक प्रकार से लगाना चाहिए जिससे पानी रिसकर बर्बाद न हो।

गाड़ी को धोने के लिए पाइप की जगह पर बाल्टी और मग का प्रयोग करना चाहिए जिससे पानी को बचाया जा सके। फुहारे के तेज बहाव के लिए अवरोधक भी लगाने चाहियें। कपड़ों और बर्तनों को धोने के लिए कपड़े और बर्तन धोने की मशीन का प्रयोग करना चाहिए। रोज पानी बचाने के लिए शौच में कम पानी का प्रयोग करना चाहिए।

फलों और सब्जियों को धोने के लिए नलों की जगह पर पानी से भरे हुए बर्तनों का प्रयोग करना चाहिए। बरसात के पानी को इकट्ठा करके शौच, उद्योगों, पीने और खाना पकाने के लिए प्रयोग करना चाहिए। सभी लोगों को जल के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझना चाहिए और पानी और भोजन पकाने में अधिक पानी के प्रयोग से बचना चाहिए।

फुहारे से नहाने की जगह पर बाल्टी का प्रयोग करना चाहिए। होली के त्यौहार के समय पर पानी के ज्यादा प्रयोग से बचना चाहिए और सूखी व सुरक्षित होली को बढ़ावा देना चाहिए। इस्तेमाल करने के बाद नल को बंद कर देना चाहिए जिससे पानी को बचाया जा सके। गर्मी के समय में कूलर में आवश्यकता के अनुकूल ही पानी का प्रयोग करना चाहिए।

पानी पीने के लिए छोटे ग्लास का प्रयोग करना चाहिए क्योंकि ज्यादातर लोग बड़े ग्लास में पानी छोड़ देते हैं छोटे ग्लास का प्रयोग करने से पानी की बर्बादी को कम किया जा सकता है। बचे हुए पानी को पौधों में डाल देना चाहिए। फल-सब्जियों को धोने के बाद पानी को पेड़-पौधों में डाल देना चाहिए। नल को पूरा नहीं खोलना चाहिए इससे पानी ज्यादा बर्बाद होता है।

जल संरक्षण का कारण : हमारे जीवन में जल का बहुत महत्व होता है उसकी कीमत को समझना चाहिए। ऑक्सीजन, पानी और भोजन के बिना जीवन संभव नहीं है। लेकिन इन तीनों में सबसे जरूरी तत्व जल होता है। हमारी धरती पर 1% से भी कम पानी पीने योग्य है। लोग स्वच्छ जल का महत्व समझना तो शुरू कर रहे हैं लेकिन उसे बचाने के लिए कोशिश नहीं करते हैं।

पृथ्वी पर जीवन को जारी रखने के लिए पानी को बचाना एक अच्छी आदत होती है और इसके लिए जितनी हो सके कोशिश करनी चाहिए। कुछ सालों पहले दुकानों पर पानी नहीं बेचा जाता था लेकिन आज सभी दुकानों पर पीने के पानी की थैलियाँ और बोतल मिलती हैं। पहले समय में लोग दुकानों पर पानी को बिकता देखकर बहुत ही आश्चर्यचकित हो गए और अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिए 20 या उससे अधिक रुपए में पानी को खरीदने के लिए तैयार हो जाते थे।

आने वाले समय में पूरी दुनिया में पीने के पानी की समस्या और भी अधिक बढ़ जाएगी। 4 मिलियन से भी ज्यादा लोग पानी की बिमारियों के कारण मर जाते हैं। विकासशील देश के लोग साफ पानी की कमी और गंदे पानी की वजह से ओने वाली बिमारियों से पीड़ित होते हैं। एक दिन के समाचारों को तैयार करने के लिए 300 लीटर पानी का प्रयोग किया जाता है इसीलिए खबरों के दुसरे माध्यम के वितरण को बढ़ावा देना चाहिए।

हर 15 सेकेण्ड में पानी से होने वाली बीमारी की वजह से एक बच्चा मर जाता है। पूरी दुनिया के लोगों में पानी की बोतलों का प्रयोग शुरू कर दिया है जिसकी कीमत $60 से $80 बिलियन प्रति साल है। बहुत से देशों में लोगों को पीने के पानी के लिए बहुत लंबी दुरी तय करनी पडती है। भारत के लोग पानी से होने वाली बीमारी से बहुत अधिक पीड़ित हैं जिसकी वजह से भारत की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है।

जल संरक्षण के नारे : जल संरक्षण के लिए बहुत से नारों का प्रयोग किया जाता है। कुछ इस प्रकार हैं :-

1. बूंद-बूंद नहीं बरतेंगे, तो बूंद-बूंद को तरसेंगे।
2. हाथ से हाथ मिलाना है पानी को बचाना है।
3. जल है तो कल है, यह हमारे लिए कुदरत की देन है।
4. जल है जीवन का अनमोल रतन, इसे बचाने का करो जतन।
5. पानी को मानो अनमोल, क्योंकि यही है जीवन का असली मोल।
6. जल संरक्षण की लायें सोच, नहीं तो पानी के लिए तरसेंगे रोज।
7. लाल-पीला हरा-नीला, इस होली खेलेंगे रंग ना हो कर गीला।
8. बारिश के पानी को बचाना है, घरेलू कामों में लगाना है।
9. जल ही जीवन है।
10. आओ सब मिलकर कसम खाएं, बूंद-बूंद पानी को बचाएं।
11. जल हमारे लिए सोना है, इसे कभी नहीं खोना है।
12. ना करो पानी को हर समय नष्ट, सहना पड़ेगा जीवन भर इसका कष्ट।
13. दूषित न करो जल को, नष्ट ना करो आने वाले कल को।
14. अगर करना है हमारे भविष्य को सुरक्षित, करना होगा बूंद-बूंद पानी को सुरक्षित।
15. जल को बचाने के लिए दृढ संकल्प लेना है, पानी बचाओ जीवन बचाओं का नारा फैलाना है।
16. नल से टिप-टिप पानी गिरने ना दें, पानी को बर्बाद होने ना दें।
17. स्वस्थ जीवन की अगर कर रहे हो खोज, बचाओ पानी रोज।
18. जल संरक्षण को हमें आज ही अपनाना है, अपने आने वाले कल को पानी की कमी से बचाना है।
19. चलो हम सब मिलकर संकल्प लें, पानी को नीचे न बहने दें।
20. पानी बिना जीवन नहीं, इसका संरक्षण हमारे लिए बोझ नहीं।
21. पानी बचाओ, जीवन बचाओ।
22. पानी की रक्षा, देश की रक्षा।
23. बिना जल जीवन में बदहाली, जल से ही है जीवन में हरियाली।
24. बूंद-बूंद जल से भरती है गागर, गागर से मिलकर बनता है सागर।
25. जल से फसल उगती है, जल से प्यास बुझती है।
26. पानी का रखो मान, देश बनेगा तभी महान।
27. स्वस्थ जीवन के लिए योग करो, पानी का उपयोग करो।

उपसंहार : यदि हम इन सभी बातों का ध्यान रखेंगे और बच्चों में भी इन आदतों को डालेंगे तो एक बहुत बड़े भाग में पानी को बचा पाएंगे। ऐसा करने से निश्चित रूप से धरती और धरती पर विकसित होने वाली प्रकृति एवं जीवन खुशहाल होगा। गंदा जल स्वच्छ जल को भी गंदा कर देता है। क्योंकि जल में पेयजल की मात्रा धरती पर बहुत ही सिमित होती है इसलिए इसका सदुपयोग कुछ लोगों के लिए बहुत ही फल दायक सिद्ध होगा।

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

जल बचाओ पर निबंध

error: Content is protected !!