Geography

गंगा नदी प्रणाली | Ganga River System

गंगा नदी प्रणाली | Ganga River System

गंगा नदी   दो पहलुओं से – घाटी और अपनी सांस्कृतिक महत्व की दृष्टि से भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है।




यह गंगोत्री से गौमुख ग्लेशियर के पास ( 3,900 मीटर)  उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले  से निकलती  है। यहाँ पर  ये भागीरथी के नाम से  जानी  जाती  है। यह  छोटे  हिमालय के  मध्य और संकीर्ण घाटियों  के माध्यम से कट जाती है  ।देवप्रयाग में भागीरथी, अलकनंदा से मिलती है और फिर उसके बाद यह गंगा के रूप में जानी  जाती  है। अलकनंदा का स्रोत  बद्रीनाथ के ऊपर सतोपंथ हिमनद में  है । अलकनंदा , धौली गंगा और विष्णु गंगा, जो जोशीमठ या विष्णु प्रयाग में मिलते होते हैं। अलकनंदा की अन्य सहायक नदिया  जैसे पिंडर,  कर्णप्रयाग में जुड़ जाती है  जबकि  मंदाकिनी या काली गंगा,  रुद्र प्रयाग में जुड़ जाती है ।  गंगा हरिद्वार से मैदान में प्रवेश करती है ।
जगह
संगम
देवप्रयाग
भागीरथी + अलकनंदा
रुद्रप्रयाग
मंदाकिनी + अलकनंदा
कर्णप्रयाग
पिंडर + अलकनंदा
विष्णुप्रयाग
धौलीगंगा + अलकनंदा




हरिद्वार से ये पहले दक्षिण में बहती है और फिर  दक्षिण-पूर्व में  और फिर ये  दो भागो में वितरिका हो जाती है,  अर्थात् भागीरथी और हुगली में बंटवारे से पहले ये  पूर्व में बहती है। इस  नदी की लंबाई 2,525 किलोमीटर  है। उत्तराखंड (110 किमी) , उत्तर प्रदेश ( 1,450 किलोमीटर) , बिहार (445 किमी) और पश्चिम बंगाल ( 520 किमी) शेत्र को सीचते हुये बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है | गंगा घाटी 8.6 लाख वर्ग किमी क्षेत्र भारत में शामिल हैं। गंगा नदी प्रणाली भारत में सबसे बडी नदी है जहां बहुत सारी बारहमासी और गैर बारहमासी नदिया  उत्तर में हिमालय और दक्षिण में प्रायद्वीप से निकलती है।

गंगा की सहायक नदिया

गंगा की महत्वपूर्ण सहायक नदियाँ –  रामगंगा, गोमती, घाघरा, गंडक, कोसी और महानंदा हैं। अंत में गंगा नदी  बंगाल की खाड़ी में खुद को  सागर द्वीप के निकट निर्वहन कर देती है ।
  • यमुना – गंगा के पश्चिमी भाग और सबसे लंबे समय तक सहायक नदी के रूप में  यमुना नदी का  स्रोत बन्दरपूँछ  रेंज (6316 किमी) के पश्चिमी ढलान पर यमुनोत्री ग्लेशियर है। यह प्रयाग (इलाहाबाद) में गंगा से  मिलती है। इसके दाहिने किनारे पर जो प्रायद्वीपीय पठार से निकलता  है चंबल, सिंध, बेतवा और केन नदिया इससे मिल जाती है  जबकि इसके बाएं किनारे पर  हिंडन ,रिंड , सेंगर, वरुण, आदि  इसमें  शामिल होती  है। इसका अधिकतर पानी पश्चिमी और पूर्वी यमुना और आगरा नहर में सिंचाई के लिए प्रयोग होता है।
  • चंबल मध्य प्रदेश के मालवा पठार के पास महू के पास से निकलती है  और यह उत्तर की ओर कोटैं राजस्थान के एक वार्ड कण्ठ के माध्यम से बहती है  जहां गांधी सागर  बांध का निर्माण किया गया है।  कोटा से यह बूंदी , सवाई माधोपुर और धौलपुर की ओर  नीचे बहती है, और अंत में यमुना में मिलती है। चंबल  अपने बदनाम स्थलाकृति  के लिए प्रसिद्ध है जिसे  चंबल के बीहड़ कहा जाता है।
  • गंडक दो धाराओं का मिलान है अर्थात् कालीगण्डक और त्रिशुलगंगा इसमें शामिल हैं। यह नेपाल हिमालय में धौलागिरी और माउंट एवरेस्ट के बीच निकलती है और नेपाल के मध्य भाग में बहती है। यह बिहार के चंपारण जिले में गंगा के मैदानी में प्रवेश करती है और सोनपुर पटना के पास गंगा में जाकर मिलती है।
  • घाघरा, मपचचुंगो के ग्लेशियरों से  निकलती है। अपनी  सहायक नदियों  टीला, सेती और बेरी का  पानी इकट्ठा करने के बाद  यह पहाड़ से बाहर आकर  शिशपन पर एक गहरी खाई में कटती है ।  शारदा नदी (काली या काली गंगा) पहले  मैदान में मिलती है  और  अंततः छपरा में गंगा से मिलती है।
  • कोसी एक पूर्ववर्ती नदी है जिसका स्रोत तिब्बत में माउंट एवरेस्ट के उत्तर में है जहां इसकी मुख्य धारा अरुण निकलती है। नेपाल में मध्य हिमालय पार करने के बाद यह पश्चिम से पुत्र कोसी और पूर्व से तमुर कोसी से जुड़े जाती  है। यह नदी अरुण नदी के साथ एकजुट होने  के बाद सप्त कोसी का  रूप ले लेती है।
  • रामगंगा अपेक्षाकृत एक छोटी नदी है जो  गैरसैण के पास गढ़वाल पहाड़ियों में बहती  है।  शिवालिक पार करने के बाद ये  दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर अपने जलमार्ग में परिवर्तन लाती है और उत्तर प्रदेश के नजीबाबाद के पास के मैदानों में प्रवेश करती है। अंत में यह कन्नौज के पास गंगा में मिलती है।
  • दामोदर  छोटानागपुर पठार के पूर्वी हाशिये पर अधिकार करके  एक दरार घाटी के माध्यम से बहती है और अंत में हुगली से  मिल  जाती  हैं।
  • बराकर इसकी मुख्य सहायक नदी है। कभी इसको  ‘ बंगाल के दु: ख ‘ के रूप में जाना जाता है पर अब दामोदर को  दामोदर घाटी निगम द्वारा एक बहुउद्देशीय परियोजना में परिवर्तित  किया गया है।
  • शारदा या सरयू नदी नेपाल हिमालय के मिलान ग्लेशियर से निकलती है जहां यह गोरीगंगा  के रूप में जानी  जाती  है।  भारत- नेपाल सीमा पर यह काली या चौक कहा  जाता है  जहां यह घाघरा में जाकर  मिलती है।



  • महानंदा , गंगा की  एक अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदी दार्जिलिंग हिल्स से निकलती  है । यह पश्चिम बंगाल में  गंगा के अंतिम  बाएं किनारे पर सहायक नदी के रूप में मिलती है।
  • सोन , गंगा नदी के दाहिने किनारे की प्रमुख सहायक नदी है। यह अमरकंटक पठार से  निकलने वाली गंगा के  दक्षिण किनारे की  एक बड़ी  सहायक नदी है । पठार के किनारे पर झरने की एक श्रृंखला बनाने के बाद यह गंगा में शामिल होने के लिए ये  पटना के पश्चिम,आरा  तक पहुँचती  है।

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक (Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now