Geography

भारतीय की जल निकास प्रणाली | India’s drainage system

भारतीय की जल निकास प्रणाली | India’s drainage system

भारत की जल निकास प्रणाली में बड़ी संख्या मे कई छोटी और बड़ी नदियां हैं। यह तीन प्रमुख भौगोलिक और प्रकृति और वर्षा की विशेषताओं इकाइयों की विकासवादी प्रक्रिया का नतीजा है।
भारत की जल निकास प्रणाली में बड़ी संख्या मे कई छोटी और बड़ी नदियां हैं। यह तीन प्रमुख भौगोलिक और प्रकृति और वर्षा की विशेषताओं इकाइयों की विकासवादी प्रक्रिया का नतीजा है।
Source: wikimedia.org




भारतीय की जल निकास प्रणाली

हिमालय जल निकास प्रणाली : हिमालय की जल निकास प्रणाली, एक लंबे भूवैज्ञानिक इतिहास के माध्यम से विकसित हुई है । इसमें प्रमुख तौर पर गंगा, सिंधु और ब्रह्मपुत्र नदी की घटियाँ शामिल हैं। इन नदियों का पोषण, बर्फ के पिघलने और वर्षा दोनों के द्वारा होती हैं, इसलिए इस प्रणाली की नदियां बारहमासी होती हैं।
हिमालयी नदियों के विकास के बारे में मतभेद हैं। हालांकि, भूवैज्ञानिकों का मानना है कि एक शक्तिशाली नदी जिससे शिवालिक या भारत- ब्रह्मा कहा जाता है हिमालय की पूरी अनुदैर्ध्य हद तय करती है असम से पंजाब और फिर बाद में सिंध तक और अंत पंजाब के पास सिंध की खाड़ी में मिल जाती है मिओसिन अवधि के दौरान तक़रीबन 5-24 दस लाख साल पहले। शिवालिक और उसके सरोवर की उत्पत्ति की असाधारण निरंतरता और कछार का जमा होने में शामिल है रेत, गाद, मिट्टी, पत्थर और कंगलोमेरट इस दृष्टिकोण का समर्थन करते हैं।
प्रायद्वीपीय जल निकास प्रणाली: प्रायद्वीपीय पठार कई नदियों द्वारा सूखता है। नर्मदा और तापी विकसित होती है मध्य भारत के पहाड़ी इलाकों में। वे पश्चिम की ओर बहती हैं और अरब सागर में शामिल हो जाती। नर्मदा उत्तर में विंध्य और दक्षिण में सतपुड़ा के पर्वतमाला के बीच एक संकरी घाटी से होकर बहती है। अन्य सभी प्रमुख नदियां – महानदी, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी पूर्व की ओर बहती हैं और बंगाल की खाड़ी में शामिल हो जाती हैं। गोदावरी सबसे लम्बी प्रायद्वीपीय नदी है। अतीत में हुए तीन प्रमुख भूगर्भीय घटनाएं प्रायद्वीपीय भारत के वर्तमान जल निकासी व्यवस्था को आकार देने के लिए उत्तरदायी हैं।
• प्रायद्वीप के पश्चिमी दिशा में घटाव के कारण तृतीयक अवधि के दौरान समुद्र अपनी जलमग्नता के नीचे अग्रणी हो जाता है। आम तौर पर यह नदी के दोनों तरफ के मूल जलविभाजन की सममित योजना को परेशान करता है।
• हिमालय में हलचल होती है जब प्रायद्वीपीय खंड के उत्तरी दिशा में घटाव होता है और जिसके फलस्वरूप गर्त अशुद्ध होता है। नर्मदा और तापी गर्त के अशुद्ध में प्रवाह करती है और अपने साथ लाये कतरे सामग्री के साथ मूल दरारें भरने का काम करती है इसलिए इन नदियों में जलोढ़ और डेल्टा सामग्री के जमा की कमी है।




• प्रायद्वीपीय ब्लॉक के उत्तर-पश्चिम से दक्षिण- पूर्वी दिशा की ओर थोड़ा सा झुकने की वजह से इस अवधि के दौरान पूरे जल निकासी व्यवस्था बंगाल की खाड़ी की ओर अभिविन्यास हो जाती है।

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक (Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now