केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान

%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%2588%25E0%25A4%2597%2B%25E0%25A4%25B9%25E0%25A4%2582%25E0%25A4%25B8%252C%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%25B2%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25A6%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25B5%2B%25E0%25A4%2598%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25BE%2B%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25B7%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%259F%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%2580%25E0%25A4%25AF%2B%25E0%25A4%2589%25E0%25A4%25A6%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25AF%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25A8 - केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान
ग्रेलैग हंस, केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान राजस्थान में स्थित एक प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान है। यह भारत का सबसे बड़ा पक्षी अभयारण्य है, जो 1964 में अभयारण्य और 1982 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था।



  • यह राष्ट्रीय उद्यान 29 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • उद्यान में शीतकाल में यूरोप, अफ़ग़ानिस्तान, चीन, मंगोलिया तथा रूस आदि देशों से पक्षी आते है।
  • लगभग 100 वर्ष पूर्व भरतपुर के महाराजाओं ने इसे आखेट स्थल के रूप में विकसित किया था।
  • केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान