GK

राजस्थान के संभाग

राजस्थान के संभाग

राजस्थान के संभाग
राजस्थान के संभाग


क्र.स. संभाग जिलो के नाम क्षेत्रफल (वर्ग किमी.) जनसंख्या (लाखो में) विशेष विवरण
1. जयपुर जयपुर, दौसा, अलवर, सीकर, झुंझुनू 36615 167.91 (24.47%) सर्वाधिक जनसंख्या, सर्वाधिक घनत्व, सर्वाधिक अनुसूचित जाति जनसंख्या, सर्वाधिक साक्षरता, राज्य का उ.पू.संभाग
2. जोधपुर जोधपुर,जालौर, बाड़मेर, पाली, सिरोही, जैसलमेर 117800 118.68 (17.30%) सर्वाधिक दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर, सर्वाधिक क्षेत्रफल, पश्चिमी राजस्थान।
3. अजमेर अजमेर, भीलवाड़ा, टोंक, नागौर 43848 97.26 (14.17%) राज्य का मध्यवर्ती संभाग
4. कोटा कोटा, बारां, बूंदी, झालावाड़ 24204 56.99 (8.30%) न्यूनतम जनसंख्या, राज्य का दक्षिण-पूर्वी संभाग
5. उदयपुर उदयपुर,राजसमन्द, डूंगरपुर,बांसवाड़ा, चित्तोडगढ, प्रतापगढ़ 36942 98.26 (14.32%) सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति, सर्वाधिक लिंगानुपात, दक्षिणी राजस्थान
6. बीकानेर बीकानेर, चुरू, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ 64708 81.58 (11.89%) सर्वाधिक अनुसूचित जाती जनसंख्या % , राज्य का उत्तरी संभाग
7. भरतपुर भरतपुर, धोलपुर, करोली, सवाईमाधोपुर 18122 65.33 (9.55%) न्यूनतम क्षेत्रफल, न्यूनतम लिंगानुपात, राज्य का पूर्वी संभाग

राजस्थान के संभाग

  1. जयपुर संभाग- जयपुर, दौसा, सीकर, अलवर, झुंझुनू
  2. जोधपुर संभाग- जोधपुर, जालौर, पाली, बाड़मेर, सिरोही, जैसलमेर
  3. भरतपुर संभाग- भरतपुर, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर
  4. अजमेर संभाग- अजमेर, भीलवाड़ा, टोंक, नागौर
  5. कोटा संभाग- कोटा, बुंदी, बांरा, झालावाड़
  6. बीकानेर संभाग- बीकानेर, गंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू
  7. उदयपुर संभाग- उदयपुर, राजसंमद, डूंगरपुर, बांसवाड़ा,चित्तौड़गढ़, प्रतापगढ़




  • संभागीय कार्यलय जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर, ओर कोटा में स्थापित किये गये है। इनमे जयपुर संभाग के अंतर्गत जयपुर, टोंक, सवाईमाधापुर, अलवर, भरतपुर, सीकर और झुंझनु, जोधपुर संभाग में जोधपुर, पाली, नागोर, बाड़मेर, जैसलमेर, सिरोही, और जालोर, उदयपुर संभाग में उदयपुर, भीलवाड़ा, चित्तोडगढ, डूंगरपुर और बांसवाड़ा, कोटा संभाग में कोटा, बूंदी और झालावाड़ तथा बीकानेर संभाग के अंतर्गत बीकानेर, चुरू और गंगानगर जिले रखे गये थे।
  • 1 नवम्बर, 1956 को अजमेर राज्य के राजस्थान में विलीनीकरण कर अजमेर राजस्थान का 26 वाँ जिला बनाया गया और इसे तत्कालीन जयपुर संभाग के अधीन रखा गया। साथ ही जयपुर संभाग का नाम अजमेर संभाग कर दिया गया लेकिन संभागीय आयुक्त का मुख्यालय यथावत जयपुर में ही रहा।
  • अप्रैल, 1962 को मोहन लाल सुखाड़िया सरकार ने संभागीय व्यवस्था समाप्त की।
  • 26 जनवरी, 1987 को हरिदेव जोशी सरकार ने संभागीय व्यवस्था को पुन: लागू करते हुए 6 नये संभाग – जयपुर, अजमेर, जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर, कोटा बनाये।
  • 4, जून 2005 को वसुंधरा राजे सरकार ने भरतपुर को 7 वाँ संभाग बनाया।वर्तमान में राजस्थान में 7 संभाग है – ( 2011 की जनगणना के आधार पर )

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाले संभाग- बीकानेर व जोधपुर

सर्वाधिक अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग- जोधपुर

न्युनतम अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग-बीकानेर

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के नजदीक संम्भागीय मुख्यालय-बीकानेर

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा से दुर सम्भागीय मुख्यालय -जोधपुर

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा संभाग- जोधपुर

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग- बीकानेर


अन्तर्राज्जीय सीमा

अन्तर्राज्जीय सीमा बनाने वाले संभाग-सात

सर्वाधिक अन्तर्राज्जीय सीमा बनाने वाला सम्भाग- उदयपुर

न्युनतम अन्तर्राज्जीय सीमा सीमा बनाने वाला संभाग- अजमेर

अन्तर्राज्जीय सीमा के नजदीक संभागीय मुख्यालय- भरतपुर

अन्तर्राज्जीय सीमा से दुर संभागीय मुख्यालय- जोधपुर

अन्तर्राज्जीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा संभाग -जोधपुर

अन्तर्राज्जीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग- भरतपुर

दो बार अन्तर्राज्जीय सीमा बनाने वाला संभाग- उदयपुर(चित्तौड़गढ़ के दो भाग)

राजस्थान का मध्यवर्ती संभाग- अजमेर

सभी 6 संभागों की सीमा से लगने वाला संभाग-अजमेर

सर्वाधिक नदियों वाला संभाग-कोटा(नदियो वाला जिला- चित्तौड़गढ़)

सबसे कम नदियों संभाग- बीकानेर(बीकानेर व चुरू जिले में कोई नदी नहीं बहती है)



अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

जिला :-       वर्तमान में राजस्थान में 33 जिले है। 1 नवम्बर 1956 को पुनर्गठन के समय राजस्थान में जिलो की संख्या 26 थी। राजस्थान का 26 वाँ जिला अजमेर था।

15 अप्रैल, 1982 को धोलपुर (भरतपुर से) 27 वाँ जिला बना।

10 अप्रैल, 1991 को बारां (कोटा से) 28 वाँ, दौसा (जयपुर से) 29 वाँ, राजसमन्द (उदयपुर से ) 30 वाँ जिला बना। एक ही दिन बनने के कारण इन जिलो को अंग्रेजी वर्णक्रम के अनुसार क्रम दिया गया है।

12 जुलाई, 1994 को हनुमानगढ़ (श्रीगंगानगर से) 31 वाँ जिला बनाया गया।

19 जुलाई, 1997 को करोली (सवाईमाधोपुर से) 32 वाँ जिला बनाया गया।

26 जनवरी, 2008 को प्रतापगढ़ (चित्तोडगढ, उदयपुर व बांसवाड़ा से) 33 वाँ जिला बनाया गया।