GK

क्रियायें और काल (verbs & Tenses)

क्रियायें और काल (verbs & Tenses)

जिस शब्द से कार्य का करना या होना पाया जाता है, उसे क्रिया कहते है |

  • बूढा आदमी जा रहा है |
  • बालक दौड़ रहा है |
  • सूरज उदय हो रहा है |
  • सैनिक गोली चला रहा है |

वाक्य (क) ‘जा रहा है’ क्योंकि इससे जाने का काम प्रकट हो रहा है |

वाक्य (ख) ‘दौड़ रहा है’ क्योंकि इससे दौड़ने काम प्रकट हो रहा है |

वाक्य (ग) में ‘उदय हो रहा है’ क्रिया है, क्योंकि इससे उदय होने का काम प्रकट हो रहा है |

वाक्य (घ) ‘चला रहा है’ क्रिया है क्योंकि इससे गोली चलाने का काम प्रकट हो रहा है |

घातु (Root Verb) – क्रिया के मूल रूप को धातु कहते है | जैसे – ज्ञा, पढ़, आ, गा, रो, हँस, बस, सो इत्यादि |

संज्ञार्थक क्रिया – धातु के आगे ‘ना’ लगाने से क्रिया का जो रूप बनता है उसे संज्ञार्थक क्रिया कहते है | संज्ञार्थक क्रियाएँ संज्ञा की तरह प्रयुक्त की जाती है | जैसे-

  • हँसना सभी पसंद करते है | (पसंद करना क्रिया का कर्ता है )
  • बच्चे रोना जानते है | (जानते है क्रिया का कर्म)
  • यही रो रोना है | (है क्रिया का पूरक)

क्रिया के भेद (Kinds of verb)

क्रिया के दो भेद होते है – 1. सकर्मक क्रिया 2. अकर्मक क्रिया

  1. सकर्मक क्रिया – जिन क्रियाओं के साथ उनका कर्म होता है | उन्हें अकर्मक क्रिया कहते है | जैसे- कृष्ण गाय देखता है | इसमें देखना क्रिया का फल गाय (कर्म) पर पड़ता है | अत: यह अकर्मक क्रिया है |
  2. अकर्मक क्रिया – जिन क्रियाओं के साथ उनका कर्म नहीं होता वे अकर्मक क्रिया कहलाती है | जैसे – लडकी हंसती है | इस वाक्य में हंसती क्रिया है तथा लडकी इसका कर्ता है | हंसती है क्रिया का फल इसके कर्ता (लडकी) पर ही पड़ता है | इसका क्रम नहीं है अत: यह अकर्मक क्रिया है |

सकर्मक तथा अकर्मक क्रिया की पहचान

क्रिया पर प्रश्न किया जावे ‘क्या’ या किसको का उत्तर आ जाए तो क्रिया अकर्मक है यदि न मिले तो अकर्मक है |

सकर्मक – सुरेश पुस्तक पड़ता है – क्या पढ़ता है = पुस्तक

अकर्मक – सुषमा मुस्कुराती है | – क्या मुस्कुराती है ? —

सकर्मक व अकर्मक क्रियाओं की दूसरी पहचान यह है की जिस क्रिया के साथ क्रम हो या आ सकता हो व सकर्मक क्रिया होगी  जैसे –

राधा पुस्तक पढ़ती है | यहाँ कर्म स्पष्ट है – पुस्तक

राधा पढ़ती है – यह पर कर्म नहीं है | परन्तु आ सकता है |

अकर्मक क्रिया को सकर्मक बनाने की विधि – जब अकर्मक धातु से भाव वाचक संज्ञा बनाकर उसका कर्म उसका कर्म के रूप में प्रयोग किया जाए, तब अकर्मक क्रय सकर्मक बना जाती है –

अकर्मक सकर्मक
अनिल हँसता है |

गिरीश चलता है |

मोहनसिंह दौड़ता है |

अनिल तीखी हंसी करता है |

गिरीश तेज चाल चलता है |

मोहनसिंह लम्बी दौड़ दौड़ता है |

 

प्रेरणार्थक प्रयोग में भी अकर्मक क्रिया सकर्मक बन जाती है –

अकर्मक सकर्मक
गाडी चलती है |

लता लजाती है |

वृक्ष बढ़ता है

इंजन गाडी को चलाता है |

अध्यापिका लता को लजाती है

पानी वृक्ष को बढाता है |

सकर्मक किया के भेद  – सकर्मक किया के दो भेद होते है –

  1. प्रेरणार्थक क्रिया
  2. द्विकर्मक कर्मक क्रिया

प्रेरणार्थक क्रिया – जहां कर्ता स्वयं काम न करके किसी दुसरे से काम करवाता है , वहां प्रेरणार्थक क्रिया होती है –

  • छात्राएं पढ़ रही है |
  • अध्यापिका छात्राओं ओ पढ़ाती है |
  • प्रधानाध्यापिका अध्यापिका हो पढवाती है |

वाक्य (क) में साधारण क्रिया है |

वाक्य (ख) में पहली प्रेरणार्थक क्रिया है |

वाक्य (ग) में दूसरी प्रेरणार्थक क्रिया है |

प्रेरणार्थक क्रिया के दो भेद होते है –
1. प्रथक प्रेरणार्थक

2 दितीय प्रेरणार्थक

  • प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया वह क्रिया है जिसमे किसी काम को स्वयं न करके दुसरे से कराता है जिसे – वह लडकी हो हंसाती है | इस वाक्य में हंसने वाली लडकी है और ‘वह’ स्वयं न हंसकर लडकी हो हंसाती है |अत: यहाँ प्रेरणार्थक क्रिया है |
  • दितीय प्रेरणार्थक क्रिया वह क्रिया है जिसमे कर्ता किसी काम को स्वयं न करके अन्य व्यक्ति से कराने की प्रेरणा डेता है | जैसे – वह लडकी को उसके भाई से हंसवाता है |

इस वाक्य में हंसने वाली लडकी है जिसकों ‘वह’ स्वयं न हंसाकर उसके भाई से हंसवाता है | अत: यहाँ प्रेरणार्थक क्रिया है |

प्रेरणार्थक क्रियाओं के रूप

क्रिया प्रथम प्रेरणार्थक दितीय प्रेरणार्थक
खाना खिलाना खिलवाना
पीना पिलाना पिलवाना
कूदना कुदाना कुदवाना
बैठना बिठाना बिठवाना
रोना रुलाना रुलवाना
सीना सिलाना सिलवाना

 

2 द्विकर्मक क्रियाएँ वे क्रियाएँ है जिनमे दो कर्म हो | – जैसे- गुरु शिष्य हो पाठ पढाता है |

द्विकर्मक क्रियाओं का एक कर्म प्रधान या मुख्य होता है | और दूसरा गौण | इस वाक्य में पाठ मुख्य कर्म है तथा शिष्य गौण कर्म है |

सकर्मक व अकर्मक क्रियाओं के उपभेद

 

इन क्रियाओं के चार उपभेद है –

  1. अपूर्ण क्रिया
  2. संयुक्त क्रिया
  3. नामधातु क्रिया
  4. पूर्वकालिक क्रिया

अपूर्ण क्रिया – कुछ क्रियाएँ बिना अन्य शब्दों के पूरा अर्थ प्रकट नहीं कर सकती है | एसी क्रियाओं को अपूर्ण क्रिया कहते है | जैसे – वह है |

इस वाक्य में ‘है’ क्रिया पुरे अर्थ को प्रकट नहीं करती है | इसमें ‘है’ के पहले बुद्दिमान, मुर्ख, विद्वान आदि कोई पूरक शब्द लगाना आवश्यक है |तभी क्रिया का अर्थ पूर्ण होगा –

जैसे- वह मुर्ख है | वह विद्वान है | वह बुद्दिमान है |

संयुक्त क्रिया – जहाँ क्रिया में दो या दो से अधिक धातु मिले हुए हो तो वह संयुक्त क्रियाएँ बना ली जाती है | जैसे –

  • वर्षा होने लगी |
  • वह खा चूका था |
  • में जा सकता हु |
  • भाई को पढने दो |
  • बालक खेला करता है |

नाम धातु क्रिया – यह क्रिया विशेषत: मूल धातु से बनती है परन्तु कभी-कभी संज्ञा आदि शब्दों से भी क्रियाएँ बना ली जाती है |

जैसे –

संज्ञा क्रिया प्रयोग
लाज लजाना तुम्हारे काम मुझे लजाते है |
लात लतियाना सिपाही चोर को लतियाता है |
उद्दार उद्दारना गंगा पापियों को उद्दारती है |
दुःख दुखना मेरा पाँव दुखता है |

पूर्वकालिक क्रिया – किसी पूर्ण क्रिया के पहले आनेवाली अन्य क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया कहते है | जैसे – पढ़कर खेलने जाओ |

खेल+कर – खेलकर

काल

क्रिया का वह रूप जिसमे उसके होने या करने का समय जाना जाए काल कहलाता है | इसके तीन भेद है –

  1. भूतकाल
  2. वर्तमान काल
  3. भविष्यत काल

भूतकाल – बहुत काल क्रिया का वह रूप है जिससे बीते समय में क्रिया के होने या करने का बोध पाया जाए  जैसे – राम ने रावण को मारा था |

वर्तमान काल – वर्तमान काल क्रिया का क्रिया का वह रूप है जिससे वर्तमान काल समय में क्रिया का होना या करना पाया जाए  जैसे – गीता गाना गाती है |

भविष्यत काल – भविष्यत काल क्रिया का वह रूप है जिससे भविष्यत (आनेवाले) समय में क्रिया के होने या करने का बोध पाया जाता है |

जैसे – वह कल बम्बई जाएगा |

भूतकाल

भूतकाल के छ: भेद होते है –

  1. सामान्य भूत
  2. आसन्न भूत
  3. पूर्ण भूत
  4. अपूर्ण भूत
  5. सदिग्ध भूत
  6. हेतुमेतुमद भूत

सामान्य भूत – इसमें साधारण रूप से क्रिया के हो चुकने का ज्ञान होता है | यह नहीं जाना जा सकता की क्रिया को समाप्त हुए थोड़ी देर हुई है या अधिक | जैसे – मोहन ने पुस्तक पढ़ी |

आसन्न भूत – इस काल से यह ज्ञात होता है की कार्य निकट भूत में , अभी-अभी पूरा हुआ है | जैसे – मोहन ने पुस्तक पढ़ ली है |

उसने भोजन कर लिया है

पूर्ण भूत – इस काल से यह ज्ञात होता है की कार्य को समाप्त हुए बहुत अधिक समय व्यतीत हो चूका है | इसमें कार्य किसी निश्चित अवधि से पूर्व समाप्त हो जाता है | जैसे – मोहन पुस्तक पढ़ चूका है |

अपूर्ण भूत – इस काल से यह ज्ञात होता है की कार्य भूतकाल में आरम्भ किया गया था  परन्तु उसकी पूर्ति नहीं हुई थी | जैसे – मोहन पुस्तक पढ़ रहा था |

संदिग्ध भूत – जिससे कार्य के भूत काल में होने का संदेह हो | जैसे- मोहन पुस्तक पढ़ रहा था |

हेतुमेतुमद भूत – यह क्रिया का वह रूप है जिसमे भूत काल में होने वाली क्रिया का होना किसी दूसरी क्रिया के होने पर निर्भर हो | अर्थात इससे यह जाना जाता है की कार्य भूत काल में हो सकता था परन्तु किसी अन्य कार्य के न हो सकने के कारण न हो सका | जैसे- मोहन पढ़ा लिखा होता तो पुस्तक पढ़ लेता | यदि डाक्टर आ जाता तो रोगी न मरता | यदि वर्षा हो जाती तो अकाल न पड़ता |

वर्तमान काल

वर्तमान काल के तीन भेद है –

  1. सामान्य वर्तमान
  2. अपूर्ण वर्तमान
  3. संधिग्ध वर्तमान

सामान्य वर्तमान – इसमें साधारण रूप से वर्तमान काल में कार्य का होना पाया जाता है | जैसे – मोहन पुस्तक पड़ता है |

अपूर्ण वर्तमान- इससे ज्ञात होता है की कार्य वर्तमान काल में जारी (चालु) है | जैसे- मोहन पुस्तक पढ़ रहा है |

संदिग्ध वर्तमान – इससे कार्य के वर्तमान काल में होने में संदेह होता है | जैसे – मोहन पुस्तक पढ़ता होगा |

भविष्यत काल

भविष्यत काल के दो भेद है –

सामान्य भविष्य

संभाव्य भविष्यत

सामान्य भविष्यत – जहां साधारण रूप से भविष्यत काल में कार्य का होना पाया जाता है | जैसे – मोहन पुस्तक पढ़ेगा | कल वर्षा होगी |

सम्भाव्य भविष्यत – जिसमे भविष्यत काल में कार्य होने में संदेह, सम्भावना या इच्छा प्रकट हो | जैसे – सम्भव है आज वर्षा हो | आज वह आ सकता है |

क्रियायें और काल (verbs & Tenses)