रासायनिक संतुलन

Science

हमारा उद्देश्य

हमारा उद्देश्य फेरिक आयन और थायोसाइनेट आयन के बीच संतुलन के स्थानांतरण का इनमें से किसी एक की सांद्रता में वृद्धि करके अध्ययन करना है।

सिद्धांत

कई रासायनिक अभिक्रियाओं में संतुलन की स्थिति शामिल होती है। फारवर्ड अभिक्रियाओं की दर बैकवार्ड अभिक्रियाओं की दर के बराबर हो जाने पर





 

संतुलन  को गतिशील होना कहा जाता है।

रासायनिक संतुलन का नियम’

इसे अभिकारकों (रिएक्टेंट) की सांद्रता के गुणक से उत्पादों की सांद्रता के गुणक के अनुपात के रूप में जहां प्रत्येक सांद्रता शब्द समग्र संतुलित रासायनिक समीकरण में अपने ही गुणांक द्वारा घात से बढ़ाई जाती है, परिभाषित किया जाता है,  यह निश्चित तापमान पर स्थिरांक मात्रा होती है और इसे संतुलन स्थिरांक (कांस्टैाण्ट्) कहा जाता है।

एक सामान्य अभिक्रिया पर विचार करें,





आगे प्रतिक्रिया की दर = रिवर्स प्रतिक्रिया की दर

  , kc= संतुलन स्थिरांक (कांस्टैंट),

Science Notes के अपडेटेड लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वाईन करे | Click Now

ली चैटलियर सिद्धांत

यह सिद्धांत कहता है कि यदि संतुलन पर प्रणाली दबाव या तापमान में होने वाले बदलाव या घटक के मोल की संख्या के अधीन है तो उस दिशा में शुद्ध अभिक्रिया का रूझान होगा जो इस बदलाव का प्रभाव कम कर देता है।

सांद्रता में बदलाव का प्रभाव

संतुलन पर सांद्रता में बदलाव के प्रभाव का वर्णन करने के लिए निम्नलिखित अभिक्रियाओं पर विचार करें,

संतुलन स्थिरांक (कांस्टैंट),



इस अभिक्रिया में, गहरे लाल रंग का फेरिक थायोसाइनेट कांप्लेवक्सा बनाने के लिए फेरिक क्लोराइड पोटेशियम थायोसाइनेट के साथ अभिक्रिया करता है। संतुलन प्राप्त करने पर लाल रंग की तीव्रता स्थिरांक बन जाती है।

  • यदि हम गहरे लाल रंग के विलयन में फेरिक आयनों की सांद्रता बढ़ाते हैं तो, कांप्लेक्स की सांद्रता बढ़ जाती है और संतुलन फारवर्ड दिशा में स्थानांतरित हो जाता है।
  • यदि हम विलयन में थायोसाइनेट आयनों की सांद्रता बढ़ाते हैं तो, कांप्लेक्स  की सांद्रता बढ़ जाती है और संतुलन फारवर्ड दिशा में स्थानांतरित हो जाता है।
  • यदि हम पोटेशियम आयनों की सांद्रता बढ़ाते हैं तो, पोटेशियम थायोसाइनेट की सांद्रता बढ़ जाती है और संतुलन बैकवार्ड दिशा में स्थानांतरित हो जाता है।

 

आम तौर पर,

  • अभिकारकों (रिएक्टें ) की सांद्रता में वृद्धि- संतुलन का फारवर्ड दिशा में सथानांतरण और अभिकारकों (रिएक्टेंट) की सांद्रता में कमी- संतुलन का बैकवार्ड दिशा में स्थानांतरण l
  • उत्पादों की सांद्रता में वृद्धि- संतुलन का बैकवार्ड दिशा में स्थानांतरण और उत्पादों की सांद्रता में कमी- संतुलन का फारवर्ड दिशा में सथानांतरण l




Science Notes के अपडेटेड लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वाईन करे | Click Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.