राजस्थान के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी

राजस्थान के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी




  • अर्जुनलाल सेठी (1880-1941)- जयपुर में 1907 जयपुर मेवर्धमान विधालय की स्थापना की जिसमे क्रांतिकारीयों की प्रशिक्षण दिया जाता है | राजस्थान में सर्वप्रथम राजनैतिक चेतना को जन्म देने वाले क्यक्ति थे | जोरावर सिंह बारहट व प्रताप सिंह बारहट ने इन्ही से प्रशिक्षण लिया था | 1941 में अजमेर में ख्वाजा की दरगाह में इनकी मृत्यु हो गई |
  • विजय सिंह पथिक (1882-1954)- बुलंदशहर उ.प्र.- मूल नाम भूपसिंह | राजस्थान में किसान आन्दोलन के जनक और बिजोलिया के सफल संचालक विजय सिंह पथिक थे | उन्होंने राजस्थान सेवा संघ (1919) और सेवा समिति (1915) की स्थापना की | पथिक जी ने वर्धा से राजस्थान केसरी और अजमेर से नीव राजस्थान व तरुण राजस्थान नामक पत्रिकाओं का सम्पादन किया | वाट आर द इण्डियन स्टेट्स पथिक जी की चर्चित रचना है |
  • केसरी सिंह बारहट (1872-1941) देवपुरा गाँव , शाहपुरा (भीलवाडा)- उपनाम-राजस्थान केसरी | बारहट जी ने 1903 में दिल्ली दरबार जाते हुए महाराणा फतेहसिंह को चेतवनी रा चुंगट्या नाम से वीर भारत सभा के माध्यम से डिंगल में 13 सोरठे लिखकर स्वाभिमान जगाया | 1910 में स्थापित वीर भारत सभा के माध्यम से राजपूत जमींदारों में सामजिक सुधार का प्रयास किया | अपने पुत्र प्रताप सिंह की शहादत का समाचार सुनकर उन्होंने कहा की ‘ मुझे ख़ुशी है की भारत