चित्तौड़गढ़ क़िला

चित्तौड़गढ़ क़िला




चित्तौड़गढ़ क़िला राजस्थान के इतिहास प्रसिद्ध चित्तौड़ में स्थित है। यह क़िला 25.53 अक्षांश और 74.39 देशांतर पर स्थित है। क़िला ज़मीन से लगभग 500 फुट ऊँचाई वाली एक पहाड़ी पर बना हुआ है। परंपरा से प्रसिद्ध है कि इसे चित्रांगद मोरी ने बनवाया था। आठवीं शताब्दी में गुहिलवंशी बापा ने इसे हस्तगत किया। कुछ समय तक यह परमारों, सोलंकियों और चौहानों के अधिकार में भी रहा, किंतु सन 1175 ई. के आस-पास उदयपुर राज्य के राजस्थान में विलय होने तक यह प्राय: गुहिलवंशियों के हाथ में ही रहा।

इतिहास

प्राचीन चित्रकूट दुर्ग या चित्तौड़गढ़ क़िला राजपूत शौर्य के इतिहास में गौरवपूर्ण स्‍थान रखता है। यह क़िला 7वीं से 16वीं शताब्‍दी तक सत्ता का एक महत्त्वपूर्ण केन्द्र हुआ करता था। लगभग 700 एकड़ के क्षेत्र में फैला यह क़िला 500 फुट ऊँची पहाड़ी पर खड़ा है। यह माना जाता है कि 7वीं शताब्‍दी में मोरी राजवंश के चित्रांगद मोरी द्वारा इसका निर्माण करवाया गया था।

राजवंशों का शासन

चित्तौड़गढ़ का क़िला कई राजवंशों के शासन का साक्षी रहा है, जैसे-

  1. मोरी या मौर्य (7वीं-8वीं शताब्‍दी ई.)
  2. प्रतिहार – 9वीं-10वीं शताब्‍दी ई.
  3. परमार – 10वीं-11वीं शताब्‍दी ई.
  4. सोलंकी – 12वीं शताब्‍दी ई.
  5. गुहीलोत या सिसोदिया

आक्रमण

क़िले के लम्‍बे इतिहास के दौरान इस पर तीन बार आक्रमण किए गए। पहला आक्रमण सन 1303 में अलाउद्दीन ख़िलज़ी द्वारा, दूसरा सन 1535 में गुजरात के बहादुरशाह द्वारा तथा तीसरा सन 1567-68 में मुग़ल बादशाह अकबर द्वारा किया गया था। प्रत्‍येक बार यहाँ जौहर किया गया। इसकी प्रसिद्ध स्‍मारकीय विरासत की विशेषता इसके विशिष्‍ट मजबूत क़िले, प्रवेश द्वार, बुर्ज, महल, मंदिर, दुर्ग तथा जलाशय स्वयं बताते हैं, जो राजपूत वास्‍तुकला के उत्‍कृष्‍ट नमूने हैं।

प्रवेश द्वार

इस क़िले के सात प्रवेश द्वार हैं। प्रथम प्रवेश द्वार ‘पैदल पोल’ के नाम से जाना जाता है, जिसके बाद ‘भैरव पोल’, ‘हनुमान पोल’, ‘गणेश पोल’, ‘जोली पोल’, ‘लक्ष्‍मण पोल’ तथा अंत में ‘राम पोल’ है, जो सन 1459 में बनवाया गया था। क़िले की पूर्वी दिशा में स्‍थित प्रवेश द्वार को ‘सूरज पोल’ कहा जाता है।

पर्यटन स्थल

चित्तौड़गढ़ क़िला अनेक दर्शनीय और ऐतिहासिक स्थानों से परिपूर्ण है। पाडलपोल के निकट वीर बाघसिंह का स्मारक है। महाराणा का प्रतिनिधि बनकर इसने गुजरातियों से युद्ध किया था। भैरवपोल के निकट कल्ला और जैमल की छतरियाँ हैं। रामपोल के पास पत्ता का स्मारक पत्थर है। इस क़िले के अंदर और भी कई आकर्षक स्थल हैं, जो पर्यटन की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण हैं, जैसे-

  1. कुम्भा महल
  2. पद्मिनी महल
  3. रत्न सिंह महल
  4. फतेह प्रकाश महल
  5. कलिका माता मन्दिर
  6. समाधीश्वर मन्दिर
  7. कुम्भास्वामी मन्दिर
  8. सात बीस देवरी
  9. कीर्ति स्तम्भ
  10. जैन कीर्ति स्तम्भ
  11. गौमुख कुंड




अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक (Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

चित्तौड़गढ़ क़िला
%25E0%25A4%259A%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%25A4%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25A4%25E0%25A5%258C%25E0%25A4%25A1%25E0%25A4%25BC%25E0%25A4%2597%25E0%25A4%25A2%25E0%25A4%25BC%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A4%25BC%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%25B2%25E0%25A4%25BE - चित्तौड़गढ़ क़िला
विवरणचित्तौड़गढ़ का क़िला ज़मीन से लगभग 500 फुट ऊँचाईवाली एक पहाड़ी पर बना हुआ है।
राज्यराजस्थान
ज़िलाचित्तौड़गढ़
निर्मातामेवाड़ के राजपूतों
स्थापना7 वीं शताब्दी
भौगोलिक स्थितिउत्तर- 24° 53′ 10.68″, पूर्व- 74° 38′ 49.20″
मार्ग स्थितिचित्तौड़गढ़ का क़िला, चित्तौड़गढ़ बूँदीरोड से लगभग 4 से 5 किमी की दूरी पर स्थित है।
कब जाएँअक्टूबर से मार्च
कैसे पहुँचेंहवाई जहाज़, रेल, बस आदि
Airplane - चित्तौड़गढ़ क़िलामहाराणा प्रताप हवाई अड्डा
Train - चित्तौड़गढ़ क़िलाचित्तौड़गढ़ रेलवे स्टेशन, चंडेरिया रेलवे स्टेशन, शंभूपुरा रेलवे स्टेशन
Tour info - चित्तौड़गढ़ क़िलामुरली बस अड्डा
Taxi - चित्तौड़गढ़ क़िलास्थानीय बस, ऑटो रिक्शा, साईकिल रिक्शा
क्या देखेंजैन कीर्तिस्तंभ, महावीरस्वामी का मंदिर, पद्मिनी का महल, कालिका माई का मंदिर
कहाँ ठहरेंहोटल, धर्मशाला, अतिथि ग्रह
क्या खायेंराजस्थानी भोजन
एस.टी.डी. कोड01472
ए.टी.एमलगभग सभी
Map icon - चित्तौड़गढ़ क़िलागूगल मानचित्र
भाषाहिंदी, राजस्थानी, अंग्रेजी
अन्य जानकारीदुर्ग अनेक दर्शनीय और ऐतिहासिक स्थानों से परिपूर्ण है। पैदल पोल के निकट वीर बाघसिंह का स्मारक है।
अद्यतन‎




error: Content is protected !!