द्रव्य का वर्गीकरण


द्रव्य का वर्गीकरण

द्रव्य का वर्गीकरण

द्रव्य का वर्गीकरण

द्रव्य का वर्गीकरण

द्रव्य के बाह्य सरंचना के आधार पर इसे तीन भागों में बांटा गया है | ठोस, द्रव, गैस (चौथी अवस्था प्लाज्मा को भी माना जा सकता है जो अति ताप पर द्रव्य की अवस्था है )

  1. ठोस अणु एक दुसरे के साथ द्रढ़ता के साथ बंधे होने के कारण यह कठोर होता है इसका द्रव्यमान तथा आयतन निश्चित होता है | जैसे – लोहा, पत्थर, लकड़ी आदि |
  2. द्रव्य इनका आयतन निश्चित होता है परन्तु आकार अनिश्चित होता है | जिस भी बर्तन में रखे जाते है ये उसी का आकार ग्रहण कर लेते है | जैसे – जल दूध, शहद, पेट्रोल आदि |
  3. गैस इनका आकार व आयतन दोनों अनिश्चित होते है | जिस भी बर्तन में रखे जाते है उसी का आकार व आयतन दोनों ग्रहण कर लेते है |

जल, गंधक, फास्फोरस तीनों अवस्थाओं में पाया जाता है जबकी कपूर, नौसादर, आयोडीन ठोस से गैस अवस्था में परिवर्तित हो जाते है |

प्लाज्मा द्रव्य की वह अवस्था है जिसमें उच्च ताप पर परमाणु आयनित अवस्था में रहते है | यह अवस्था विधुत की सुचालक होती है |

Classification of matter

रसायन विज्ञान नोट्स

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now