Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

मोर पर निबंध

मोर पर निबंध

मोर पर निबंध
मोर पर निबंध

भूमिका : मोर हमारा राष्ट्रिय पक्षी है। यह देश की लम्बाई और चौडाई में पाया जाता है। मोर हमारे भारत देश का राष्ट्रिय पक्षी है। पक्षियों में यह बड़ा पक्षी होता है। मोर के बहुत ही सुंदर और रंगबिरंगे पंख भी होते हैं। मोर के पंख लम्बे सतरंगी और चमकदार होते हैं। मोर के सिर पर जन्म से ही प्राप्त एक मुकुट होता है।

मोर की गर्दन रंगबिरंगी , चमकदार और लम्बी होती है। मोर शाकाहारी और मांसाहारी दोनों प्रकार के होते हैं। मोर के पंजे नुकीले और तीखे होते हैं। मोर की टांगों की आकृति वी [ > ] आकार की होती है। मोर भारत के कई स्थानों में हरियाली वाले क्षेत्रों में रहते हैं।

मोर अपने समुदाय के साथ रहने वाला पक्षी है। मोर का वजन दुसरे पक्षियों की तुलना में अधिक होता है इसी वजह से मोर लम्बे समय तक उड़ नहीं पाता है। मोर भारतीय जीवन , संस्कृति , सभ्यता , सुन्दरता और इसकी उपयोगिता की वजह से यह मान्यता को प्राप्त हुआ है। बहुत ही प्राचीन काल से मोर को हमारे साहित्य , मूर्तिकला , चित्रकला और नक्काशी में जगह मिली है।

प्रकार : मोर चार प्रकार का होता है – हरी मोर , कांगो मोर , भारतीय और बर्मीज। भारतीय और बर्मीज मोरों के बीच में बहुत मुख्य अंतर होता है। भारतीय मोर अपने सिर पर एक आधे चाँद के आकार की शिला बनाते हैं जबकि बर्मीय मोर का एक मुखर शिखा होता है।

निवास : मोर एक बहुत ही मुश्किल पक्षी है। चरम जलवायु परिस्थितियों में इसकी अद्वितीय अनुकूलन क्षमता होती है इसलिए यह राजस्थान के गर्म , शुष्क रेगिस्तान क्षेत्र में रह सकता है। मोर यूरोप और अमेरिका के ठंडे वातावरण में भी रह सकता है। आमतौर पर मोर स्थायी जल स्त्रोत के पास झाड़ियों या जंगलों में रहना पसंद करता है।

रात के समय में मोर लम्बे पेड़ों की निचली शाखाओं पर चुपचाप सोता है। मोर निम्न ऊँचाई वाले क्षेत्रों में भी पाए जाते हैं। मोर जंगल की आधी सुखी घास के क्षेत्र से लेकर नम पेड़ों वाले क्षेत्र में पाए जाते हैं। मोर सदैव पानी के नजदीक रहते हैं। मोर मानव निवास के खेतों , गांवों और शहरी क्षेत्रों में अक्सर पाए जाते हैं।

भौतिक लक्षण : मोर प्रजातियों की दुनिया भर में सराहना की जाती है। मोर अपनी चोंच की नोक से 225 सेंटीमीटर ट्रेन की समाप्ति कर सकते हैं और 5 किलोग्राम तक वजन कर सकते हैं। मोर का सिर , स्तन और गर्दन का रंग नीला होता है। उनके पास आँखों के चारों ओर सफेद रंग के पेंच हैं।

मोर के सिर पर पंखों का एक शिला है जो कम है और नीले पंखों के साथ मिलता है। मोर की सबसे प्रमुख विशेषता उसकी पूंछ है। जिसे ट्रेन के रूप में भी जाना जाता है। यह ट्रेन पूरी तरह से विकसित होने के बाद सिर्फ चार साल के अंडे सेने के बाद विकसित होती है।

मोर के 200 पंख होते हैं जो पीछे से बढ़ते हैं और बहुत लंबा उपरी पूंछ कवर्स का हिस्सा हैं। ट्रेन द्वारा पंखों को संशोधित किया जाता है ताकि पंख उनके पास न जाएँ और इसलिए वे ढीले से जुड़े होते हैं। रंग विस्तृत माइक्रोस्ट्रक्चरस का एक परिणाम है जो ऑप्टिकल घटनाओं का एक प्रकार का उत्पादन करता है।

हर रेलगाड़ी पंख एक आँखों वाले या ओसेलस वाले अंडाकार क्लस्टर से समाप्त होती है जो बहुत ही आकर्षक होती है। मोर के पीठ के पंख भूरे रंग के होते हैं। भारतीय मोर की जांघों का रंग चमकता है और वे हिन्द से ऊपर के पैर पर प्रेरणा देते हैं। मोरनी में भी चमकीले रंगों की पूरी तरह से कमी नहीं है।

मोरनी मुख्यत: भूरे रंग की होती हैं और कभी-कभी मोर की तरह उनके पास एक शिखा होती है लेकिन वो भी भूरे रंग की होती है। मोरनी पूरी तरह से विस्तृत ट्रेन की कमी रखती हैं और उनके पास गहरे भूरे के पेंच के पंख होते हैं। मोरनी की सफेद रंग का चेहरा और गला , भूरे रंग की हिन्द गर्दन और पीठ , एक सफेद पेट और एक धातु हरी ऊपरी स्तन है।

आदत और प्रकृति : मोर डरावना और शर्मिला दोनों प्रकार का पक्षी है। मोर प्रकृति में समूह में रहते हैं। आमतौर पर मोर एक झुंड में रहते हैं जिसमें पांच मोरनी और एक मोर होता है। मोर अधिक उड़ नहीं सकते हैं लेकिन अपने मजबूत पैरों से तेजी से चल सकते हैं। मोर के पंख उडान के लिए पर्याप्त नहीं हैं इसलिए वे उड़ने की जगह पर चलना पसंद करते हैं।

मोर की आवाज कठोर और तीखी होती है। मोर आमतौर पर बहुत ही सतर्क और प्रकृति में बुद्धिमान होते हैं। जब उन्हें खतरे का अहसास होता है तो वे अन्य पक्षियों को सचेत करने के लिए ऊँचे स्वर में चिल्लाते हैं। बादल और बरसात के दिन मोर के प्रिय होते हैं।

इस दिन मोर खुशी से भर जाता है और खुशी से नृत्य करने लगता है जो बहुत ही आनंदमय और दुर्लभ दृश्य होता है। मोर की तुलना में मोरनी आकर में छोटी और सुस्त होती हैं। मोरनी के पंख नहीं होते हैं। मोरनी एक समय में एक पेड़ के घोंसले में या झाड़ी में तीन से पांच अंडे देती है।

मोरनी कभी-कभी अंडे लगाने के लिए अपने पैरों की सहायता से छोटे गड्ढे खोदती है। अंडे का रंग सफेद होता है। एक मोर की औसत दीर्घावधि 20 से 25 साल होती है। मोर शिकारियों से बचने के लिए एक लम्बे पेड़ की उपरी शाखाओं के साथ-साथ एक समूह के रूप में घूमते हैं। जब मोर उत्तेजित हो जाते हैं तो भागते हुए पलायन करना पसंद करते हैं।

मोर का महत्व : मोर के पंख बहुत ही सुंदर होते हैं। मोर के पंखों और लकड़ी का प्रयोग सजावट के लिए और कई फैंसी वस्तुओं के लिए बहुत से कुटीर उद्योगों में किया जाता है। मोर के पंखों की चिकित्सा की गुणवत्ता को प्राचीन भारतीय और श्री लंकाई चिकित्सा साहित्य में भी उल्लेख किया गया है।

वैसे तो मोर को विश्व की कई सभ्यता में बहुत ही सुंदर और योग्य पक्षी माना जाता है लेकिन भारत में मोर के समान किसी अन्य पक्षी को नहीं माना जाता है। मोर को हमारे भारत देश में सुन्दरता और शिष्टता का प्रतीक माना जाता है। भारतीय सभ्यता में मोर का महत्व प्राचीनकाल से ही है।

मोर के पंखों को बड़े-बड़े महाराज मुकुट और सिंहासन में लगाते थे। मोर पंख में स्याही भरकर लिखने वाले बहुत से कवियों ने इसकी महत्ता को बताया है। हिन्दू धर्म में मोर खास तौर पर मान्य है। भगवान श्री कृष्ण मोर पंख को अपने सिर पर धारण करते थे। इसके अतिरिक्त भगवान शिव के पुत्र कार्तिक का वाहन भी मोर ही है।

भारत का राष्ट्रिय पक्षी मोर : हम सभी को पता है कि मोर को सन् 1963 में राष्ट्र पक्षी घोषित किया गया था। मोर को हमारा राष्ट्र पक्षी किस वजह से घोषित किया गया था इस बात को बहुत कम लोग जानते हैं। राष्ट्रिय पक्षी के लिए पहले सारस , ब्राम्हिणी काइट और हंस के नामों पर विचार किया जा रहा था लेकिन मोर को ही राष्ट्रिय पक्षी के रूप में चुना गया था।

मोर के राष्ट्रिय पक्षी बनने के पीछे बहुत से कारण है। नेशनल बर्ड सिलेक्शन के लिए सन् 1960 में तमिलनाडू राज्य के उधागमंडलम नाम के एक गाँव में मीटिंग की गई थी। मीटिंग की गाइडलाइन्स के अनुसार देश के हर हिस्से में पाए जाने वाले पक्षी को ही नेशनल बर्ड के लिए चुनना बहुत जरूरी था। इसके अतिरिक्त आम आदमी उस पक्षी को जानता भी हो और वह पक्षी भारतीय संस्कृति का हिस्सा भी हो। इन सभी बातों पर मोर बिलकुल खरा उतरा था इसलिए उसे ही राष्ट्रिय पक्षी के रूप में चुना गया था।

मोर की विशेषताएं : मोर खेतों में धान और अन्य प्रकार की फसलों में पैदा होने वाले कीट-पतंगों को खा जाता है जिससे फसल अच्छी होती है। मोर बहुत ही बुद्धिमान पक्षी होता है। जब मोर खुश होता है तो अपने पंखों को फैलाकर नाचता है इसी वजह से मोर को पक्षियों का राजा कहा जाता है।

मोर के पंख को श्री कृष्ण अपने सिर पर लगाते हैं। मोर चलता ज्यादा है और उड़ता कम है। मोर अपनी नुकीली चोंच से सांप को मारने की शक्ति रखता है। मोर के पंखों में कुछ विशेष पदार्थ होता है जो जड़ी-बूटियों में काम आता है। मोर हर साल अपने पंख बदलता है। मोर के पुराने पंख झड़ जाते हैं और कुछ समय बाद उनकी जगह पर नए पंख आ जाते हैं।

मोर संरक्षण कानून : जब हमारे देश में मोर का शिकार किया जाता है तो शिकारी को सरकार द्वारा दंड दिया जाता है। भारत में मोर की संख्या बहुत कम है। भारत देश में मोर की सुरक्षा के लिए सन् 1972 में मोर संरक्षण कानून बनाया गया। यह कानून मोर की संख्या बढ़ाने और उसकी रक्षा के लिए बहुत ही अच्छा कानून है। मोर की संख्या में बढ़ोतरी की जाए इसके लिए भारत सरकार कई प्रकार के मोर संरक्षण अभियान चलाती आ रही है। इस कानून के बनने के बाद भारत में मोर की संख्या में सुधार आया है।

उपसंहार : वैसे तो मोर बहुत ही सुंदर और आकर्षक पक्षी है लेकिन फिर भी बहुत से खराब आदमी इनको जीता हुआ देखना नहीं चाहते हैं। बहुत से शिकारी मोर का शिकार करते हैं और उन्हें खाते हैं पर साथ-ही-साथ उनकी खाल को भी बेच देते हैं। भारत सरकार ने मोर का शिकार करने के विरुद्ध बहुत से कानून बनाए हैं जिससे अब मोर का शिकार करना बहुत कम हो गया है। भारत में मोर की स्थिति बहुत ही अच्छी है। इसलिए भारत देश को सभी देशों के द्वारा राष्ट्र भी कहा जाता है।

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

मोर पर निबंध Essay on peacock

error: Content is protected !!