Geography GK

भारत की मिट्टी की रूपरेखा | India’s soil profile

भारत की मिट्टी की रूपरेखा | India’s soil profile

मिट्टी सबसे महत्वपूर्ण संसाधन है। गेहूं, चावल और मोटे अनाज, दलहन, तिलहन, पेय पदार्थ, सब्जिया और फल आदि सब मिट्टी से प्राप्त होते हैं। इसके अलावा खाद्य लकड़ी, फाइबर, रबर, जड़ी बूटियों और औषधीय पौधे भी मिट्टी से प्राप्त किये जाते हैं।

मिट्टी के प्रकार

• जलोढ़ मिट्टी: नदियों द्वारा महीन गाद जमा होने से बने होते हैं। यह दुनिया की सबसे उपजाऊ मिट्टी में से एक है। ये उत्तरी मैदानों और नदी-डेल्टा में पाए जाते हैं। बहुत महीन और अपेक्षाकृत नई जलोढ़क गंगा-ब्रह्मपुत्र के जलोढ़ बाढ़ मैदानों में और डेल्टा में पाया जाता है और खादर के रूप में जाना जाता है। अपेक्षाकृत पुराने और मोटे जलोढ़क भांगर के रूप में जाने जाते है। यह नदी घाटियों के ऊपरी किनारों पर पाए जाते है।




• काली मिट्टी: ज्वालामुखी चट्टानों के लावा प्रवाह से बनी हैं। वे मिट्टी मृत्तिकावत् होती हैं और लंबी अवधि के लिए नमी बरकरार रखती  है। ये मिट्टी उपजाऊ है। ये महाराष्ट्र के डेक्कन ट्रैप क्षेत्र में और मध्य प्रदेश और गुजरात के कुछ हिस्सों में मुख्य रूप से पाई जाती हैं । ये मिट्टी कपास फसल उगाने के लिए सबसे उपयुक्त हैं। यह काली कपास मिट्टी के रूप में भी जानी जाती है। स्थानीय स्तर पर इस मिट्टी को रेगुर मिट्टी कहा जाता है।
• लाल मिट्टी: भारतीय प्रायद्वीप के गर्म और अपेक्षाकृत शुष्क दक्षिणी और पूर्वी भागों की आग्नेय चट्टानों से निकाली गई है। ये मिट्टी कम उपजाऊ है। हालांकि उर्वरकों के उपयोग के साथ ये अच्छी फसल का उत्पादन कर सकती हैं।
• लेटराइट मिट्टी: छोटा नागपुर के पठार और उत्तर-पूर्वी राज्यों के कुछ  गर्म हिस्सों और पश्चिमी घाट में पाई जाती हैं। भारी वर्षा के कारण मिट्टी के ऊपर के पोषक तत्वों में गिरावट आकर चूना रह जाता है । इस प्रक्रिया को लीचिंग के रूप में जाना जाता है। इस मिट्टी में धरण की कमी होती है और इसलिए ये कम उपजाऊ होती है।
• पहाड़ी मिट्टी: हिमालय के पहाड़ी क्षेत्र में मिट्टी की परत आम तौर पर पतली है। घाटियों में अपेक्षाकृत मोटी परत होती है। ऐसे क्षेत्रों की मिट्टी को पहाड़ी मिट्टी के रूप में जाना जाता है। राजस्थान और गुजरात के शुष्क क्षेत्र में पायी गई रेतीली मिट्टी को रेगिस्तान मिट्टी के रूप में वर्गीकृत किया जाता हैं। ये संरचना में ढीली होती हैं और इसमें नमी की कमी होती है।




अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक (Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now