Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

राजस्थान की झीलें एवं बाँध

राजस्थान की झीलें एवं बाँध (Lakes and dams of Rajasthan)

राजस्थान की झीलें एवं बाँध
राजस्थान की झीलें एवं बाँध

यहाँ इस पोस्ट में आप को राजस्थान की झीलें एवं बाँध के बारे में बताया गया है राजस्थान में झीलों व बाँध के बारे में बताया गया है जाने इस पोस्ट में और यदि आप रोजाना लगातार अपडेट हासिल करना चाहतें है तो हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे Click Now

    • राजस्थान में खारे पानी की झीले टेथिस महासागर के अवशेष है |
    • राज्य में खारे पानी की झीले मुख्यतः राजस्थान के उत्त्तर-पश्चचमि मरुस्थल भाग में पाई जाती है |
    • राजस्थान में सर्वाधिक खारे पानी की झीले नागौर जिले में स्थित है |




    • संभार झील :- भारत में खारे पानी की सबसे बड़ी तथा प्राक्रतिक झील है |
    • साल्ट म्युजियम:- सांभर में स्थापित किया गया है | यह देश में सर्वाधिक नमक उत्पादक झील है |
    • पंचपदरा झील:- इस झील में सर्वश्रेष्ठ किस्म का नमक प्राप्त होता है | इस झील में खारवाल जाती के लोग परम्परागत तरीके से नमक बनाने का कार्य करते है |
    • जयसमंद झील :- 17 वी शताब्दी में निर्मित राजस्थान की सबसे बड़ी कर्त्रिम व सबसे बड़ी मीठे पानी की झील है |
    • यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी कर्त्रिम झील है |
    • राजसमन्द झील :- इसका निर्माण कार्य 1662 ई. में महाराजा राजसिंह द्वारा गोमती नदी पर प्रारम्भ किया गया जो 1676 ई. में पूर्ण हुआ | इस झील का एक भाग 9 चोकी कहलाता है जिस पर संगमरमर के 25 शिलालेख स्थित है




  • राजमहल/ सिटी पैलेस :- इसका निर्माण महाराणा उदयसिंह ने पिछोला झील के किनारे किया , इसकी तुलना लन्दन के विशाल महल से की जाती है |
  • सिलिसेड झील :- अलवर में स्थित इस झील को राजस्थान का नंदकानन कहा जाता है | इस झील पर महाराजा विनयसिंह ने 1844-45 ई. में अपनी पत्नी शिलादेवी की स्म्रति में एक महल का निर्माण कराया |
error: Content is protected !!