प्रायद्वीपीय नदी जो पश्चिम की ओर बहती हैं | Peninsular river that flows westward

प्रायद्वीपीय नदी जो पश्चिम की ओर बहती हैं | Peninsular river that flows westward

महत्वपूर्ण प्रायद्वीपीय नदियां जो पश्चिम की ओर से बहती है वह शत्रुनुजी, भद्रा, कालिंदी, बैदती, शरावती, भरथपुजः, पेरियार और पंबा है जो नदियां अरब सागर की ओर बहती है उनका जलमार्ग लघु होता है। यह नदियां गुजरात, कर्नाटक, महारास्त्र राज्यों से होकर निकलती है। जो प्रायद्वीपीय नदियां पश्चिम की ओर से निकलती, उनकी चर्चा नीचे की गई है:-
• शत्रुनुजी एक ऐसी नदी है जो अमरेली जिले में धलकवा के निकट से निकलती है।
• भद्रा राजकोट जिले में आयलि गांव के पास से निकलती है। दादर पंचमहल जिले में घंटार गांव के पास से निकलती है।
• साबरमती और माही गुजरात के दो प्रसिद्ध नदियां हैं।
• वैतरणा नासिक जिले में त्रिम्बक पहाड़ियों से 670 की.मी ऊचाई से निकलती है।
• काली नदी बेलगाम जिले से निकलती है और कारवार खाड़ी में गिर जाती है। बैदती नदी का स्त्रोत हुबली धारवार में पड़ता है और जिसका जलमार्ग 161 किलोमीटर का है।
• शरावती कर्नाटक से निकलने वाली एक और महत्वपूर्ण नदी है जो पश्चिम की ओर बहती है। यह नदी कर्नाटका के शिगेगा जिले से निकलती है जिसका निस्कासित जलग्रहण क्षेत्र
2209 वर्ग किलोमीटर का है।
• मांडोवी और जुआरी गोवा की दो महत्वपूर्ण नदियों है।
• केरल में एक संकीर्ण समुद्र तट है। केरल की सबसे लम्बी नदी भरतपुज, अन्नामलाई पहाड़ियों से नकलती है। यहपोन्नानी नाम से भी जाना जाती है। जिसका निष्कासित क्षेत्र 5397 वर्ग किलोमिटर है।
• पेरियार केरला की दूसरी सबसे बड़ी नदी है। इसके जलग्रहण क्षेत्र 5243 वर्ग किलोमीटर है। जैसा देखा जा सकता है धरतपूजा और पेरियार नदियों के जलग्रहण होने में मामूली सा अंतर है।
• पंबा नदी केरल की एक और नदी है जो उललखयनीए है। जो 177 किलोमीटर जलमार्ग तय करने के बाद विलोम्बाद झील में गिर जाती है।



अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक (Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

नदियांआवाह क्षेट्र (वर्ग की.मी)
साबरमती21,674
माही34,842
ढंढार2,770
कालीनदी5,179
शरावती2,029
भरतपुजः5,397
पेरियार5,243




Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!