रस हिंदी व्याकरण – 2

रस हिंदी व्याकरण – 2

निम्नलिखित काव्यांश पंक्तियों में कौन – सा रस है ?

Q.1) बतरस लालच लाल की,
मुरली धरी लुकाय |
सौंह करै भौंहनि हँसै,
दैन कहै नटि जाय ||

a) संयोग रस
b) करुण रस
c) वियोग रस
d) शांत रस

Q.2) मानहु मदन दुंदभि दीने |
मनसा विश्व विजय कहु कीन्हे ||

a) करुण रस
b) वियोग रस
c) शांत रस
d) संयोग रस

Q.3) पिल्ला लीने गोद में मोटर भई सवार
अली भली घूमन चली किये समाज सुधार
किये समाज सुचार हवा यूरोप की लागी
शुद्ध विदेशी चाल डाल अनुराग
मिया नचाव सारे करे अब तोब लीला |
पूत डाप के गोद में खिलावय बीती पिल्ला |

a) वीर रस
b) रौद्र रस
c) हास्य रस
d) श्रृंगार रस

Q.4) अर्ध राति गइ कपि नहि आयउ | राम उठाइ अनुज उर लायउ |
मम हित लागि तजेहु पितु माता | सहेहु बिपिन हिम आतम बाता |
सो अनुराग कहाँ अब भाई | उठहु न सुनि मम बच बिकलाई |

a) शांत रस
b) वीर रस
c) करुण रस
d) श्रृंगार रस

Q.5) मैं सत्य कहता हूँ सखे, सुकुमार मत जानो मुझे |
यमराज से भी युद्ध में प्रस्तुत सदा मानो मुझे ||

a) वीर रस
b) संयोग रस
c) शांत रस
d) करुण रस

Q.6) हाँ रघुनंदन प्रेम परीते |
तुम विन जिअत बहुत दिन बीते ||

a) वीर रस​
b) संयोग रस
c) शांत रस
d) करुण रस

Q.7) रे नृप बालक काल बस
बोलत तेहि न संभार |
धनु ही सम त्रिपुरारि |
धनु विदित सकल संसार |

a) वियोग रस
b) रौद्र रस
c) संयोग रस
d) करुण रस

Q.8) कंधों पर बादल खोते ले
उसके करी सुन्डो से डाले |

a) रौद्र रस
b) भयानक रस
c) वीभत्स रस
d) अद्भुत रस

Q.9) मोहन मूरत श्याम की
अति अद्भुत गति जेई |
वसन सूचित अंतर तऊ
विग विक जग होय ||

a) रौद्र रस
b) भयानक रस
c) वीभत्स रस
d) अद्भुत रस

Q.10) पायो जी म्हें तो राम-
रतन धन पायो | वस्तु
अमोलक दी मेरे सतगुरु,
करि किरपा​ अपणायो |

a) वात्सल्य रस
b) शांत रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.11) प्रचछन रोग है |
सयोग मात भाँति वियोग हाँ लोदी |
भोग में लीने योग |
भूले हैअपना अपर्ण राम ओ |
छण भंगुर राम – राम ||

a) वात्सल्य रस
b) शांत रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.12) देखी यशोदा शिशु के मुख में
सकल विश्व की माया |
क्षण भर को वह बनी अचेतन
हित न सकी कोमल काया ||

a) वात्सल्य रस
b) शांत रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.13) शेष महेश गनेश दिनेश
सुरेशहु जाहि निरंतर गावैं ||

a) शांत रस
b) वात्सल्य रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.14) उठो लाल अब आँखें खोलो
पानी लाइ हूँ मुँह धो लो |

a) शांत रस
b) वात्सल्य रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.15) सत की नाव खेवटिया सतगुरु,
भवसागर तरि आयो |
“मीरा” के प्रभु गिरधर
नागर, हरख – हरख जस पायो ||

a) शांत रस
b) वात्सल्य रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.16) आठवाँ दिवस मन ध्यान युक्त चढ़ता ऊपर |
कर गया अतिक्रम ब्रह्मा हरि शंकर का स्तर ||

a) शांत रस
b) वात्सल्य रस
c) भक्ति रस
d) अद्भुत रस

Q.17) एक ओर अजगर लखि एक ओर मृग राई |
विकल बटोही बीच ही परयो मूर्छा खाए |

a) भयानक रस
b) शांत रस
c) वीभत्स रस
d) रौद्र रस

Q.18) किलकत कान्ह घुटरवनि आवत,
मनिमय कनक नंद कै
आंगन, बिम्ब पकरिबै धावत

a) वीर रस
b) वात्सल्य रस
c) संयोग रस
d) करुण रस

Q.19) मन पछतहिह अवसर बीते
दुर्लभ देहि पाई हरि पद |
भजु करम असहिते ||

a) शांत रस
b) करुण रस
c) वीर रस
d) श्रृंगार रस

Q.20) इस करुणा कलित हृदय में
क्यों विकल रागिनी बजती
इन हाहाकार स्वरों में,
वेदना असीम गरजती |

a) शांत रस
b) करुण रस
c) वीर रस
d) श्रृंगार रस

Q.21) दुलहिन गावहु मंगलचार
हम घर आये राजा राम भरतार ||

a) वीभत्स रस
b) वात्सल्य रस
c) संयोग रस
d) वियोग रस

Q.22) रक्त है ? या है नसों में क्षुद्र पानी ?
जाँच कर तू सीस दे – देकर जवानी |

a) वीभत्स रस
b) वियोग रस
c) वीर रस
d) संयोग रस

Q.23) चढ़ चेतक पर तलवार उठा,
करता था भूतल पानी को |
राणा प्रताप सिंह काट-काट,
करता था सफल जवानी को |

a) वियोग रस
b) वात्सल्य रस​
c) वीर रस
d) वीभत्स रस

Q.24) सिर पर बैठो काग आँख को खात निकारत,
खिचत जिभही शयार अति आनंद उदधारत,
गीध जांघ को खोदी के मास उभारत |

a) वीभत्स रस
b) वात्सल्य रस
c) संयोग रस
d) वियोग रस

Q.25) मैया मोरी चंद्र खिलौना लाऊ हो |
जैहयो कोटि घस पर अबहि तेरे गोद न अइहो |

a) वीभत्स रस
b) वात्सल्य रस
c) संयोग रस
d) वियोग रस




रस हिंदी व्याकरण नोट्स हिंदी में

रस हिंदी व्याकरण – 1

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

error: Content is protected !!