राजस्थान के क्रांतिकारी

राजस्थान के क्रांतिकारी

राजस्थान के क्रांतिकारी

दामोदर दास राठी

  • जन्म: पोकरण में 8 फरवरी, 1884 ई. को
    ब्यावर में आर्य समाज व होमरूल लीग (1916) की स्थापना की।
  • ब्यावर में सनातन धर्म, स्कूल, कॉलेज तथा नवभारत विद्यालय की स्थापना की।
    राजस्थान के स्वतंत्रता संग्राम के भामाशाह
    कार्यक्षेत्र अजमेर
  • 1989 ई. में राज्य में सबसे पहले सूती वस्त्र मिल की स्थापना की
  • बाल गंगाधर तिलक की उग्र नीतियों के समर्थक
  • 21 फरवरी, 1915 ई. की क्रांति हेतु सहायता।
  • 2 जनवरी, 1918 ई. को निधन

जोरावर सिंह बारहठ

  • केसरी सिंह का बारहठ के छोटे भाई
  • 23 दिसम्बर, 1912 ई. को दिल्ली के चांदनी चौक में लॉर्ड हार्डिंग पर बम फेंकने वाला साहसी व्यक्ति।

श्यामजी कृष्ण वर्मा

  • 1887-1897 तक रतलाम, उदयपुर व जूनागढ़ राज्यों में दीवान पद पर रहें।
    स्वदेशी के प्रबल समर्थक।
  • इंग्लैण्ड में इंडिया हाऊस व होमरूल सोसायटी की स्थापना की।

माणिक्य लाल वर्मा

  • जन्म: 4 दिसम्बर, 1897 ई. में बिजौलिया, भीलवाड़ा
  • मेवाड़ प्रजामंडल के संस्थापक
    1934 ई. में सागवाड़ा में खाडलाई आश्रम की स्थापना की जिसका उद्देश्य भीलों को समाज की मुख्य धारा मे लाना।
  • मेवाड़ का वर्तमान शासन पुस्तक लिखी। ‘पंछीड़ा’ गीत लिखा।
  • संयुक्त राजस्थान के प्रधानमंत्री बने।
  • 1965 ई. में पदम् विभूषण से सम्मानित

भोगीलाल पांड्या (बागड़ के गांधी)

  • जन्म: 1904 ई. में सीमलवाड़ा, डूंगरपुर
    आदिवासियों में निरक्षरता उन्मूलन हेतु शिक्षा का प्रचार-प्रसार
  • बागड़ सेवा मंदिर नाम से संस्था की स्थापना की, इसके बंद हो जाने पर वनवासी सेवा संघ की 15 मार्च, 1938 को स्थापना की।
  • स्व. मणि बहन पांड्या इनकी पत्नी इन्हें ‘बागड़वा’ की उपाधि दी।
  • 1967 में पद्म विभूषण दिया गया।

सागरमल गोपा

  • जन्म: जैसलमेर में
    1915 ई. में सर्वहितकारी वाचनालय की स्थापना
  • जैसलमेर के महारावल जवाहर सिंह के अत्याचारों का विरोध।
  • आजादी की दीवाने, जैसलमेर मे गुण्डाराज नामक पुस्तकें लिखी।
  • जैसलमेर व हैदराबाद राज्य में घुसने पर प्रतिबंध।
    जेल अधीक्षक गुमान सिंह ने 3 अप्रैल 1946 को जेल में गोपा की हत्या की जांच हेतु गोपाल स्वरूप पाठक समिति का गठन।

जमनालाल बजाज

  • जन्म: 4 नवंबर, 1889 ई. को काशीनास गांव, सीकर में
  • गांधीजी के पांचवें पुत्र के नाम से प्रसिद्ध।
  • 1917 ई. में अंग्रेजों ने ‘राय बहादुर’ का खिताब दिया। जिसे 1921 ई. में असहयोग आन्दोलन में लौटा दी।
  • 1920 ई. में कांग्रेस के बागपुर अधिवेशन के अध्यक्ष चुने गये।
  • 1937 ई. में मद्रास (चेन्नई) में हिन्दी साहित्य समिति के अध्यक्ष।
  • राजस्थान में सर्वप्रथम उत्तरदायी शासन की मांग करने वाले।
  • चरखा व खादी के समर्थक। 1927 ई. में चरखा संघ की स्थापना की।
  • 11 फरवरी, 1942 को मृत्यु हुई।

रामनारायण चौधरी

  • जन्म: 1896 में नीम का थाना, सीकर
  • 1932 ई. में हरिजन सेवक संघ की राजपूताना शाखा का कार्यभार संभाला।
    तरूण राजस्थान का संपादन किया।
  • गांधीजी की दक्षिण यात्रा के समय हिन्दी सचिव रहे।

राजस्थान के प्रमुख क्रांतिकारी

1. अमरचन्द बांठिया

2. अर्जुन लाल सेठी

3. हीरा लाल शास्त्री

4. जमनालाल बजाज

5. जानकी देवी बजाज

6. श्रीमती इंदुमती गोयनका

7. दोमोदर लाल व्यास

8. जयनारायण व्यास

9. तेज कवि

10. बाल मुकुंद बिस्सा

11. सागरमल गोपा

12. दामोदर दास राठी

13. गवरी बाई

14. गोविंद गिरी

15. मोतीलाल तेजावत

16. गोपाल सिंंह खरवा

17. विजय सिंह पथिक

18. काली बाई भील

19. केसरी सिंह बारहठ

20. जोरावर सिंह बारहठ

21. गोकुलभाई भट्ट

22. गोपाल दास

23. दुर्गाप्रसात चौधरी

24. रामनारायण चौधरी

25. प्रताप सिंह बारहठ

Leave a Reply

Your email address will not be published.