विटामिन C

विटामिन C

Vitamin C शरीर के लिए एक बहुउपयोगी पोषक तत्व हैं। हमारे उम्र के अनुसार हमें रोजाना कितने मात्रा में Vitamin C की आवश्यकता होती है इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :-

c - विटामिन C
विटामिन c

आपकी/बच्चे की उम्र

विटामिन सी की मात्रा

0 – 6 महीने तक 40 mg
7 महीने से 1 वर्ष 45 mg
1 वर्ष से 3 वर्ष 15 mg
4 वर्ष से 8 वर्ष 25 mg
9 वर्ष से 13 वर्ष 45 mg
14 वर्ष से 18 वर्ष 75 mg (पुरुष), 65 mg (महिला)
19 वर्ष से 50 वर्ष 90 mg (पुरुष), 75 mg (महिला)
गर्भावस्था (Pregnancy) 85 mg
स्तनपान (Breastfeeding) 120 mg

विटामिन सी हमारे शरीर की कोशिकाओं और अंगों को एक दूसरे के साथ जोड़ने में मदद करता है। शरीर में इसकी कमी से स्कर्वी जैसी जानलेवा बीमारी हो सकती है।

हमारे शरीर को भरपूर मात्रा में विटामिन सी मिले इसलिए यह जरूरी है कि हमारे भोजन में इसकी पर्याप्त मात्रा मौजूद रहे। चूंकि हमारे शरीर में विटामिन सी नहीं बनता है, इसलिए हम बाहरी खाद्य पदार्थों के जरिये ही इसे ग्रहण कर सकते हैं।

Vitamin C शरीर को पर्याप्त मात्रा में न मिलने पर इसकी कमी से निचे दिए हुए दुष्परिणाम या बिमारियां हो सकते हैं :-

  • मोतियाबिंद
  • त्वचा रोग
  • गर्भपात
  • खून बहना
  • मसूड़ों में दर्द
  • एलर्जी
  • खून की कमी
  • भूक न लगना
  • कैंसर
  • स्कर्वी

इस तरह Vitamin C हमारे शरीर के लिए एक बेहद आवश्यक पोषक तत्व है और अपने शरीर को स्वस्थ और सशक्त रखने के लिए हमें रोजाना अपने आहार में ऐसे आहार का समावेश करना चाहिए जिनसे हमें रोजाना पर्याप्त मात्रा में Vitamin C मिलता रहे।

विटामिन सी के फायदे

सुन्दर और निखरी त्वचा:- हमारी त्वचा की कोशिकाओं में एक बहुत जरूरी पदार्थ मौजूद होता है, जिसे कोलाजेन कहते हैं। कोलाजेन हमारी त्वचा कोशिकाओं को पोषकता प्रदान करता है, जिससे त्वचा स्वस्थ रहती है। विटामिन सी की कमी होने से कोलाजेन की भी शरीर में कमी हो जाती है। इसलिए सुन्दर त्वचा के लिए यह जरूरी है, कि हम लगातार विटामिन सी युक्त भोजन का सेवन करें।

प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करना :- हमारा शरीर हर समय बाहरी कीटाणुओं के संपर्क में रहता है और ऐसे में इनसे फैलने वाले रोगों का खतरा बना रहता है। शरीर में मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली अथवा इम्यून सिस्टम के होने से शरीर का विभिन्न रोगों से बचाव रहता है। भरपूर मात्रा में विटामिन सी का सेवन करने से हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत रहता है, और खांसी-जुकाम जैसी बिमारियों से हमारा बचाव रहता है।

खून के बहाव को रोकना:- विटामिन सी की कमी से शरीर में संयोजी ऊतक अथवा कनेक्टिव टिश्यू की कमी हो जाती है। इस हालत में शरीर में मौजूद खून के बहाव को रोक पाना मुश्किल हो जाता। यदि हमें किसी तरह की चोट लग जाती है, तो बड़ी मात्रा में खून बहने का खतरा रहता है। पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी की मौजूदगी में खून के बहाव को रोका जा सकता है और किसी भी तरह के घाव को जल्द ठीक किया जाता है।

दिल के दौरे से बचाव:- एक शोध के जरिये यह सिद्ध हुआ है कि जिन लोगों के शरीर में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी नहीं है उनको दिल के दौरे का खतरा 42 फीसदी तक बढ़ जाता है। इसका कारन भी शरीर में संयोजी ऊतक की कमी होना है। इससे बचाव के लिए यह जरूरी है कि आप पर्याप्त मात्रा में फल और सब्जियों का सेवन करें।

सम्पूर्ण विकास:- शरीर के सम्पूर्ण विकास के लिए यह जरूरी है कि हमारा प्रत्येक अंग मजबूत रहे। अंगों को मजबूत रखने के लिए उनमे मौजूद ऊतकों को मजबूत रहना होगा। विटामिन सी की मौजूदगी में अंगों में मौजूद संयोजी ऊतक पर्याप्त मात्रा में रहता है जो आपके अंगों के सम्पूर्ण विकास में मदद करता है। आपको बता दें कि आपके बालों से लेकर हर एक अंग में संयोजी ऊतकों की जरूरत रहती है।

  • एंटी ऑक्सीडेंट / Anti-oxidant :- Vitamin C को एक अच्छा एंटी ऑक्सीडेंट माना जाता हैं। हमारे शरीर में Free  radicals के कारण त्वचा पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं और बुढ़ापा जल्द आ जाता हैं। Vitamin C युक्त आहार लेने से free radicals का खात्मा होता हैं और आपकी त्वचा जवान बने रहती हैं।
  • रोग प्रतिकार शक्ति / Immunity :- Vitamin C के नियमित सेवन से शरीर की रोग प्रतिकार शक्ति मजबूत रहती है और व्यक्ति जल्द बीमार नहीं होता हैं। खासकर बच्चों को पर्याप्त मात्रा में Vitamin C देने से वे बार-बार सर्दी-खांसी और बुखार के शिकार नहीं होते हैं।
  • कैल्शियम / Calcium :- Vitamin C शरीर में कैल्शियम के अवशोषण (absorption) के लिए बेहद जरुरी होता हैं। Vitamin C की absence में कैल्शियम का अवशोषण नहीं होता और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। शिशुओं की मांसपेशिया और हड्डियों का विकास ठीक तरह से होने के लिए कैल्शियम के साथ Vitamin C पर्याप्त मात्रा में खिलाना जरुरी होता हैं।
  • कोलेस्ट्रॉल / Cholesterol :- अगर आप रोजाना पर्याप्त मात्रा में Vitamin C लेते है तो यह आपका कोलेस्ट्रॉल नियत्रण में रखने में सहायक होता हैं।
  • जुखाम / Cold :- जिन लोगों को बार-बार सर्दी-जुखाम हो जाता है ऐसे लोगो ने Vitamin C अवश्य लेना चाहिए। यह शरीर में सर्दी को बढ़ानेवाले तत्व हिस्टामिन के असर को कम करता हैं और आपकी रोग प्रतिकार शक्ति भी बढ़ाता हैं।
  • खून जमना / Clotting :- चोट लगने पर थोड़े समय पर खून जम जाता है और खून का बहाव अपने आप रुक जाता हैं। इस clotting क्रिया के लिए रक्त में Vitamin C बेहद जरुरी होता हैं।
  • उच्च रक्तचाप / High blood pressure :- हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को रोजाना पर्याप्त मात्रा में Vitamin C जरूर लेना चाहिए। यह नसों और रक्तवाहिनी को फैलाकर ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करता हैं।
  • दांत / Tooth :- मसूड़ों के स्वास्थ्य के लिए Vitamin C बेहद जरुरी होता हैं। इसके अभव में मसूड़ों से खून बहना, मसूड़े ढीले होना और मसूड़ों का टूटना जैसे दिक्क्त पैदा हो सकती हैं।
  • कैंसर / Cancer :- Vitamin C शरीर में हर तरह के कैंसर को फैलने से रोकता हैं। जो व्यक्ति नियमित पर्याप्त मात्रा में Vitamin C लेता है उनमे कैंसर का खतरा 50 % तक कम हो सकता हैं।

विटामिन सी के स्रोत :-

विटामिन C को हम लोग फल, सब्जियां और दालों के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा, बेर, अंगूर, टमाटर, अमरूद, केला, अनानास, स्ट्राबेरी, सेब, खट्टे रसीले फल, आदि एवं मूली के पत्ते, कटहल, शलजम, पुदीना, मुनक्का, दूध, चुकंदर, बंदगोभी, हरा धनिया, दालें और पालक आदि भी विटामिन सी के अच्छे स्रोत हैं।

विटामिन सी खाद्य पदार्थ :-

जैसा कि हमने ऊपर चर्चा की कि विटामिन सी को पूरी तरह से बाहरी खाद्य पदार्थों के जरिये ही ग्रहण किया जा सकता है। इसके लिए फाइबर युक्त फलों और सब्जियों का सेवन बहुत जरूरी है।

फलों में सेब, आम, स्ट्रॉबेरी, संतरा, कीवी, निम्बू आदि का सेवन करना बहुत जरूरी है। आप इनका सेवन हर रोज भी कर सकते हैं। सब्जियों में हरी सब्जियां जैसे, ब्रोकोली, गोभी, पालक, आलू, टमाटर इत्यादि का सेवन करना बहुत जरूरी है। इसके अलावा पौष्टिक सलाद का सेवन करना भी बहुत जरूरी है।

Biology Notes In Hindi

अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now

error: Content is protected !!